• kewal sethi

comments on hindi


this is an extract from a book written in the beginning of 19th century. the writer is mirza haider delhvi. the book has been reprinted by urdu academy delhi. it mainly deals with the case against last mughal king bahadur shah zafar and the royal durbar held in delhi in 1903. but as an introduction, this passage and certain comments about hindi writers are there. just for curious people, these views are given here about hindi.


जिस तरह प्यार के मारे बच्चों का असली नाम के इलावा दूसरा नाम रख लेते हैं, इसी तरह उर्दू प्यार का नाम है जो बजाए हिन्दुस्तानी के बोला जाता है. हिन्दुस्तानी कहने से यह मालूम हो जाये गा कि यह ज़बान जो अपने दुसरे नाम उर्दू के साथ मशहूर है तमाम हिंदुस्तान कि ज़बान है. किसी ज़बान कि मजाल नहीं कि इस को आँख भर कर देख सके. उर्दू की असल हिंदी है जो आर्य हफ्त ज़बान मैं से एक है जो श्माली हिंद मैं कहीं कहीं बोली जाती है. बाकी छह ज़बानें पंजाबी, सिन्धी, गुजराती, मराठी, बंगाली और उऱिया हैं. मगर यह मादूद मकामात में बोली जाती है और इन का रवाज ज़यादा नहीं है.

3 views

Recent Posts

See All

न्यायाधीशों की आचार संहिता

न्यायाधीशों की आचार संहिता केवल कृष्ण सेठी (यह लेख मूलत: 7 दिसम्बर 1999 को लिखा गया था जो पुरोने कागज़ देखने पर प्राप्त हुआ। इसे ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है) सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्या

यक्ष प्रश्न

यक्ष प्रश्न सितम्बर 2021 ताल पर जल लाने चारों भाई यक्ष के प्रश्नों का उत्तर न देने के कारण जड़वत कर दिये गये। तब युधिष्ठर को जाना पड़ा। यक्ष के प्रश्नों का उत्तर देने को वह तैयार हो गये। होशियार तो थे ह

घर बैठे सेवा

घर बैठे सेवा कम्प्यूटर आ गया है। अब सब काम घर बैठे ही हो जायें गे। जीवन कितना सुखमय हो गा। पर वास्तविकता क्या है। एक ज़माना था मीटर खराब हो गया। जा कर बिजली दफतर में बता दिया। उसी दिन नहीं तो दूसरे दि