• kewal sethi

ridiculous

when indo pak affairs are concerned, imagination rules the roost. here is an extract from a pakistani newspaper on the cause of death of sarbjit singh.


पाकिस्तान की कैद में एक जासूस था जो दहशतगर्द् भी था। इस ने बेशुमार पाकिस्तानियोें का खून बहाया था। वह गिरफतार होता है। उस पर मुकद्दमा चलता है। इसे सज़ाये मौत मिलती है। मगर उसे यह सज़ा नहीं दी जाती बल्कि उसे जेल में डाल दिया जाता है। पाकिस्तान के मफलूज हुकमरान इस दहशतगर्द को सज़ा दिलवाना नहीं चाहते हैं। इस लिये वे पाकिस्तानी शहरियों के कातिल को छोड़ने, माफ करने या वापिस उस के वतन भेजने की कोशिश में लग जाते हैं।

जब सब कोशिशें नाकाम हो जाती है तो एक नये प्लान को तरतीब दिया जाता है। प्लान के मुताबिक दहशतगर्द को कहा जाता है कि वह जेल में कुछ शेर शराबा करे और किसी तरह से किसी कैदी से थोड़ा लड़े। इस दौरान वह थोड़ा ज़खमी हो गा और उसे हस्पताल ले जाया जाये गा। और वहां पर अन्सार बरनी जैसे फरिशते उसे वागाह के रास्ते उस के मुल्क ले जायें गे। प्लान खराब हो गया। दहशतगर्द की छोटी सी लड़ाई हादसे की शकल इख्तयार कर गई और दहशतगर्द मारा गया।


how do you react to this? if it was not tragic, it would be good for a laugh.

2 views

Recent Posts

See All

न्यायाधीशों की आचार संहिता

न्यायाधीशों की आचार संहिता केवल कृष्ण सेठी (यह लेख मूलत: 7 दिसम्बर 1999 को लिखा गया था जो पुरोने कागज़ देखने पर प्राप्त हुआ। इसे ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है) सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्या

यक्ष प्रश्न

यक्ष प्रश्न सितम्बर 2021 ताल पर जल लाने चारों भाई यक्ष के प्रश्नों का उत्तर न देने के कारण जड़वत कर दिये गये। तब युधिष्ठर को जाना पड़ा। यक्ष के प्रश्नों का उत्तर देने को वह तैयार हो गये। होशियार तो थे ह

घर बैठे सेवा

घर बैठे सेवा कम्प्यूटर आ गया है। अब सब काम घर बैठे ही हो जायें गे। जीवन कितना सुखमय हो गा। पर वास्तविकता क्या है। एक ज़माना था मीटर खराब हो गया। जा कर बिजली दफतर में बता दिया। उसी दिन नहीं तो दूसरे दि