top of page
  • kewal sethi

how did sarbjit die

how did sarbjit die


when indo pak affairs are concerned, imagination rules the roost. here is an extract from a pakistani newspaper on the cause of death of sarbjit singh.


पाकिस्तान की कैद में एक जासूस था जो दहशतगर्द भी था। इस ने बेशुमार पाकिस्तानियोेां खून बहाया था। वह गिरफतार होता है। उस पर मुकद्दमा चलता है। इसे सज़ाये मौत मिलती है। मगर इस सज़ा पर इसे सज़ा नहीं दी जाती बल्कि इसे जेल में डाल दिया जाता है। पाकिस्तान के मफलूज हुकमरान इस दहशतगर्द को सज़ा दिलवाना नहीं चाहते हैं। इस लिये वे पाकिस्तानी शहरियों के कातिल को छोड़ने, माफ करने या वापिस उस के वतन भेजने की कोशिश में लग जाते हैं।

जब सब कोशिशें नाकाम हो जाती है तो एक नये प्लान को तरतीब दिया जाता है। प्लान के मुताबिक दहशतगर्द को कहा जाता है कि वह जेल में कुछ शोर शराबा करे और किसी तरह से किसी कैदी से थोड़ा लड़े। इस दौरान वह थोड़ा ज़खमी हो गा और उसे हस्पताल ले जाया जाये गा। और वहां पर अन्सार बरनी जैसे फरिशते उसे वागह के रास्ते उस के मुल्क ले जायें गे। प्लान खराब हो गया। दहशतगर्द की छोटी सी लड़ाई एक हादसे की शकल इख्तयार कर गई और दहशतगर्द मारा गया।


how do you react to this? if it was not tragic, it would be good for a laugh.

1 view

Recent Posts

See All

the transparency

the transparency political parties thrive on donations. like every voluntary organization, political parties too need money to manage their affairs even if it is only to pay the office staff. it is tr

the turmoil in pakistan

the turmoil in pakistan the idea of pakistan is usually associated with allama mohammad iqbal. born in sialkot in a converted hindu family, the ancestors were sapru kashmiri brahmains, he was a schol

एक पुस्तक — कुछ टिप्पणी

एक पुस्तक — कुछ टिप्पणी एकपुस्तक पढ़ी — टूहैव आर टू बी। (publisher – bloomsbury academic) । यहपुस्तक इरीच फ्रॉमने लिखी है, और इस का प्रथम प्रकाशन वर्ष 1976 में हुआ था।इसी जमाने मेंएक और पुस्तकभी आई थी

Comentarios


bottom of page