top of page
  • kewal sethi

covid


कोविड


चीन से शरू हो कर युरोप अमरीका का चक्कर लगा कर


कोविड आखिर भारत में आया उसे अपना निषाना बना कर


न जाने कौन सी बीमारी है जो फैल रही है यूॅं बे तहाशा


न दवा इस की, न इलाज कोई इस का, अजब है तमाशा


पढत़े थे रोज़ अख्बारो में इतने आ गये इस की ज़द में


किस स्टेट ने पा लिया काबू, कौन भुगत रहे अभी तक इसे


कभी घर जाते हुये मजबूर मज़दूरों की कहानी थी हर सू छाई


कभी सिकुड़ती हुई इकानोमी की परेशानी से जनता घबराई


सुनते थे, कवितायें लिखते थे, कुछ दर्द भरी कुछ व्यंगात्मक


पर घबराहट हो रही है जब घर के सामने दी इस ने दस्तक


परसों से इस की खबर आ रही है कानों कान थी सब बात


पर कल तो पुलिस वाला बाकायदा हो गया वहाॅं पर तैनात


कोविड हाटस्पाट का बोर्ड भी चस्पाॅं कर दिया इस गेट पर


तुर्रा यह कि पचास एक इश्तहार भी लटका दिये इधर उधर


न जाने कब सड़क पार कर इधर भी आ जाये यह नामुराद


घर से निकलना भी तो अब तो लगता है जी का जंजाल


आया, अब आया वैक्सीन, इस का ही शोर है चारों अतराफ


पर तब तक कौन जाने भारत के, विश्व के क्या हों गे हालात


वैक्सीन नहीं हे, दवा नहीं, न है इस में किसी अपने का सहारा


कहें कक्कू कवि सिर्फ दुआ पर ही मनुहसर है जीवन हमारा



4 views

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Kommentare


bottom of page