top of page
  • kewal sethi

देखा

देखा


दिल्ली देखी, भारत देखा और देखा है ज़माना

चलता रहता है यह संसार चलता रहता है आना जाना

महापुरुषों के निधन पर लोगों को कोटि कोटि नीर बहाते देखा

फिर उन आदर्शों को सामने रख कर उलटे काम करते देखा

सत्ता के पीछे हाथ धो कर पड़े हुए इंसान को देखा

इंसानों के खेल को देख कर हॅंसते हुए भगवान को देखा

हर शख्स को पैसे की खातिर बेचते हुए ईमान है देखा

इस सौदे में होता हुआ एक अजीब अभिमान है देखा

रोती हुई रूहों को कब हॅंसने से है काम रहा

पैसे की झंकार पर दिल बन जाता पाषाण यह देखा

आग लगी थी घर में, देख रहे सब लोग तमाशा

इस समय भी घर मालिक को करते चिन्ता अनुदान की देखा

इस में कितने वोट मिलें गे, इस का मन में धर कर

करते हुये अनुकम्पा राशि का हिसाब सियासतदान को देखा

केजरीवाल के व्यक्तव्य सुने हैं, राज्यपाल के करतब देखे

कब करते हैं काम, मालूम नहीं, बस देते हुए लम्बे ब्यान है देखा

1 view

Recent Posts

See All

महापर्व

महापर्व दोस्त बाले आज का दिन सुहाना है बड़ा स्कून है आज न अखबार में गाली न नफरत का मज़मून है। लाउड स्पीकर की ककर्ष ध्वनि भी आज मौन है। खामोश है सारा जहान, न अफरा तफरी न जनून है कल तक जो थे आगे आगे जलूसो

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

Comentários


bottom of page