top of page
  • kewal sethi

वक्त

वक्त


उठो साथियो

वक्त की ज़ंजीर को तोड़ दो

बदल दो यह निज़ाम, यह कानून

जो बने हैं सिर्फ वक्त को कैद करने के लिये

कानून जिन का सिर्फ एक मकसद है

इन अजारादारों को पनाह देने का

याद रखो साथियो

वक्त हमारे साथ है

वक्त कैद है ताकि वह हमारे साथ आ न सके

ताकि इंकलाब आ न सके

वक्त कैद है इन सयाहकारों के दौलत खाने में

सदियों से, मुद्दतों से

और हम कमज़ोर पिसते रहे हैं

इस ज़ुल्मात की चक्की में

वक्त को कैद रखने में ही इन की सलाहियत है

ताकि इन के सयाह कारनामे पोशीदा रह सकें

वक्त ज़ाहिर कर दे गा इन की बदनाम हरकतें

बेनकाब हो जायें गी इन की साजि़शें

उठो साथियों और आज़ाद करा दो वक्त को

ताकि तरक्की के रास्ते पर हम गामज़न हो सकें

यह हमारा मुल्क

जो हम सब का है

इन नाम निहाद ठेकेदाराने कौम का नहीं

जो रोकना चाहते हैं हमें कानून के नाम पर

उन का भी नहीं जो ले कर इंकलाब का नाम

करना चाहते हैें पूरे अपने इरादे नापाक

बतला दो उन्हें कि अब न चल सकें गी यह तदबीरें

क्योंकि वक्त खुद आज़ाद होने को है

उठो साथियो

वक्त को आज़ाद करायें गे हम

तोड़ दें गे वक्त की ज़ंजीरें

फिर हम आज़ाद हों गे

और आज़ाद होगा हमारा यह वक्त

और बढ़ें गे हम मिल कर उस राह पर

जो जाती है खुशहाली की जानिब

जो देती है दर्जा बराबरी का हर इंसां को

जो मंजि़ल है हम सब की

बढ़ो साथियो

तोड़ दो वक्त की ज़जीरें

आज़ाद कराओ वक्त को

वक्त हमारे साथ है

(सागर - 5.12.73)

1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

bottom of page