• kewal sethi

वक्त

वक्त


उठो साथियो

वक्त की ज़ंजीर को तोड़ दो

बदल दो यह निज़ाम, यह कानून

जो बने हैं सिर्फ वक्त को कैद करने के लिये

कानून जिन का सिर्फ एक मकसद है

इन अजारादारों को पनाह देने का

याद रखो साथियो

वक्त हमारे साथ है

वक्त कैद है ताकि वह हमारे साथ आ न सके

ताकि इंकलाब आ न सके

वक्त कैद है इन सयाहकारों के दौलत खाने में

सदियों से, मुद्दतों से

और हम कमज़ोर पिसते रहे हैं

इस ज़ुल्मात की चक्की में

वक्त को कैद रखने में ही इन की सलाहियत है

ताकि इन के सयाह कारनामे पोशीदा रह सकें

वक्त ज़ाहिर कर दे गा इन की बदनाम हरकतें

बेनकाब हो जायें गी इन की साजि़शें

उठो साथियों और आज़ाद करा दो वक्त को

ताकि तरक्की के रास्ते पर हम गामज़न हो सकें

यह हमारा मुल्क

जो हम सब का है

इन नाम निहाद ठेकेदाराने कौम का नहीं

जो रोकना चाहते हैं हमें कानून के नाम पर

उन का भी नहीं जो ले कर इंकलाब का नाम

करना चाहते हैें पूरे अपने इरादे नापाक

बतला दो उन्हें कि अब न चल सकें गी यह तदबीरें

क्योंकि वक्त खुद आज़ाद होने को है

उठो साथियो

वक्त को आज़ाद करायें गे हम

तोड़ दें गे वक्त की ज़ंजीरें

फिर हम आज़ाद हों गे

और आज़ाद होगा हमारा यह वक्त

और बढ़ें गे हम मिल कर उस राह पर

जो जाती है खुशहाली की जानिब

जो देती है दर्जा बराबरी का हर इंसां को

जो मंजि़ल है हम सब की

बढ़ो साथियो

तोड़ दो वक्त की ज़जीरें

आज़ाद कराओ वक्त को

वक्त हमारे साथ है

(सागर - 5.12.73)

1 view

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,