• kewal sethi

मसूरी

मसूरी


यूं ही बैठे बेठे कूछ गुनगुना रहा था मैं

शायद कोई भूला नगमा दौहरा रहा था मैं

कहा इक दोस्त ने कि मंसूरी शहर अच्छा है

इस पर भी कहें कुछ तो जचता है

मैं ने भी सोचा

सही हो गा मसूरी पर कविता लिखना

कलम हाथ में ली

मन घूमने लगा मंसूरी के चारों तरफ

कुलड़ी में रंगबिरंगे चहचहाते फूल

लिखने के लिये मौजूं मज़मून थे

ऊपर आसमान में नीचे देहरादून में चमकते सितारे

कल्पना को उड़ान को देते सकून थे

तभी नज़र रिक्शा खींचते हुए

दो पैर के जानवरों पर दौड़ गई

सामान पीठ पर लादे जाते हुए कुली

नज़रों के आगे घूमने लगे

जो खूबसूरती देखी थी पहली बार

वह अब नज़र नहीं आती

तब हर शाम पुरबहार थी

हर सुबह इक नई दास्तान सुनाती थी

मंसूरी का हर पत्थर लिये एक अफसाना था

हर दिन प्यारा था

हर रात निराली थी

काम्पटी से पानी नहीं अमृत बहता था

बरफ से ढके पहाड़ ---

लेकिन आज

इस बार

यह सब अजनबी से लगते हैं

नीचे देहरादून देखता हूं तो

सितारे दिखाई नहीं देते

केवल कुछ रेंगते हुए इनसान

पेट की खातिर

इधर से उधर

उधर से इधर

जाते दिखाई देते हैं

रोपवे भी मन को बहला नहीं सका

इस में भी रुंधे गलों की आवाज़ सुनाई देती है

सब कुछ बदला बदला सा है

या शायद

मैं बदल गया हूं

(मसूरी 27.4.1971)

1 view

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,