top of page
  • kewal sethi

तहलका


it would be remebered that tahalka.com started the noble practice of arresting corruption on camera. one of those caught was president of a party. my reaction to this event was put in verse. here it is.

you can peruse it on your own risk



5. तहलका


धूम तहलका डाट काम की चारों तरफ ऐ हिन्दुस्तान

बन्द कर दिया कैसे कैमरे में यहां का सारा निज़ाम

कैसे, किस तरह काम चलता है यहां पर सरकार का

यह विषय था आज तलक किस्सा राज़ दरून परदा

बाज़ार के असूल हैं, उन्हें भी नेताओं ने भुला दिया

अपना भाव यूं सरे आम उन्हों ने क्यों गिरा लिया

जिस देश में नेता ईमान बेचें, ले कर बस एक लाख

उस की विदेशी कम्पनियों में रह जाये गी क्या साख

उन से तो अच्छे हैं हमारे डी डी ए के कार्यपालन यंत्री

एक करोड़ से कम तो कभी तलाशी में रकम नहीं मिलती

दर असल हक मार रहा है वी आई पी कमज़ोर तबके का

कब तलक रहे गा वह इस माहौल में यूं दुबका हुआ

अगर दल का अध्यक्ष का मन बस एक लाख से भर जाये गा

तो बताईये भला, दफतर का बाबू फिर क्या खाक खाये गा

हमारे एक दोस्त का तो इस बारे में यह भी ख्याल है

भ्रष्टाचार को मिटाने की यह भाजपा की गहरी चाल है

जब रिश्वत देने की बात हर कोई यूं जान जाये गा

तो व्यापारी अफसर को डाली देने से भी घबराये गा

कुछ ले दे का मामले को रफा दफा करना चाहे गा

तो थानेदार बेचारा उसी में ही कैमरे में धरा जाये गा।

इस तरह यदि रिश्वत का बाज़ार ठण्डा पड़ता जाये गा

काम आज दिनों में होता है जो, वर्षों लटक जाये गा

इलाज है बस यही, तहलका वालों को कड़ी सज़ा दीजिये

दस पन्द्रह साल के लिये सलाखों के पीछे भिजवा दीजिये।

काम रुकना नहीं चाहिये कभी सरकार की मशीन का

मिलता रहे रिश्वत का तेल तभी तो गाड़ी रहे गी रवां

कहें कक्कू कवि, मिल कर आज वह आलम पैदा करें

बन्द करें यह लुका छिपी, भ्रष्टाचार हमेशा फलता रहे


केवल कृष्ण सेठी

1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Comments


bottom of page