top of page
  • kewal sethi

उदासी

उदासी


रुक कर ठहर कर धीरे धीरे बढ़ता समय आगे को

ज्यों तारों का समूहदल धरा पर देख किसी बादल को

आज बादल का वेग है न शान भरा गुमान भरा

आंखों की भांति ही है आज सूखा उधान धरा का

आंखें भी हैं कुछ सूनी सूनी, ओज नहीं वह तेज नहीं

ज्यों अगिन के हदय में आज आशा का तेल नहीं

आशा भी है ढिलमिल ढिलमिल ज्यों हो थकी थकी सी

ज्यों दीपक की बत्ती हो शाम को ही बुझी बुझी सी

और शाम आज उदास है जैसे कुछ खो गया हो

जैसे इक जीवन साथी रस्ते में ही छोड़ गया हो

रास्ता भी है आज कुछ अकेला सा जैसे मंजि़ल भूल गई हो

जैसे प्रीतम में खोई अभिसारिका आंचल संवारना भूल गई हो

और आंचल भी है कुछ ठहरा हुआ कुछ सहमा हुआ

जैसे इक दीवाना आज अचानक होश में आ गया हो

और होश तो रूप के सामने है घबराया हुआ

जैसे देख ताप जलते हदय का सूरज हो शरमाया हुआ

(होशंगाबाद 1964)


1 view

Recent Posts

See All

बैगुन का भुर्ता शर्मा और पत्नि दो माह से जुदा हो गये एक दूसरे से बिछुड़ कर दूर दूर हो गये शर्मा जी की हालत तो पूरी तरह टूट गई खाने के लाले पड गये, चाय भी छूट गई होटल से मंगाते टिफिन, जो आता सो खाते कहॉ

अर्चित बत्रा मेरी दर्द भरी कहानी चन्द शब्दों में ही सिमट जाती है। सच कहता हूॅं, जब भी याद आती है, बहुत रुलाती है। जन्म मेरा हुआ इक बड़े से नगर मेे, एक सुखी परिवार था तबियत मेरी आश्काना थी, संगीत और कवि

तराना इण्डिया बंगलुरु के सुहाने मौसम में मिल कर संकल्प ठहराया है दूर हटो मोदी भाजपा वालो, हम ने इण्डिया नाम धराया है इण्डिया अब नाम हमारा, तुम्हारा अब यहॉं क्या काम है इण्डिया की गद्दी छोड़ो, इस लिये

bottom of page