top of page
  • kewal sethi

होली बनाम मस्का

another poem on holi

a tribute to one of my friends whom i accompanied on the trip.


होली बनाम मस्का


बतायें किस तरह इस बार होली का त्यौहार मनाया

रंग लगा पाये न किसी को बस मस्का ही लगाया

उठाई कार जा पहुंचे चीफ़ सैक्ट्री के घर

लगाया उन्हें गुलाल आये जब वह निकल कर

फिर बैठ कर कुर्सी पर उस फाईल का बताने लगे

हो सकी न पूरी जो बात दफतर में वही सुनाने लगे

निकले जो वहां से तो यह ख्याल आया

पुराने सी एस को कैसे जाये गा भुलाया

बात उन से दफतर की कर न पाये तो क्या करें

इसी लिये पंजाब समस्या पर उन के विचार सुने

बात सी आर की थी, कह न पाये कुछ खुल कर

जवाब मन में ही रहने दिया उन की बात सुन कर

निकले उधर से तो सोचा कि अब किधर जायें

वर्तमान और भूत से तो अब हो गया न्याय

भावी के द्वार पर ही क्यों न दी जाये दस्तक

उनके हज़ूर में भी क्यो न झुके अपना मस्तक

सो उन्हें भी जा कर गुलाल हम लगा आये

शायद इसी से रंग उन पर हमारा जम जाये

सब तरफ होकर आ गये फिर घर के अन्दर

तीनों काल जीत लिये बन गये हम सिकन्दर

होली का यह दिन इस साल तो बहुत रहा प्यारा

कक्कू कवि ने भूत, वर्तमान, भविष्य को सुधारा


1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

コメント


bottom of page