top of page
  • kewal sethi

संस्कृति का महत्व

संस्कृति का महत्व


सिंगापुर के प्रधान मन्त्री ने 1989 में संसद को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम सांस्कृतिक दबाव में आ रहे हैं तथा पश्चिमी देशों की जीवन शेली तथा मूल्य अपना रहे हैं। हम अपने एशिया वाले नैतिकता, कर्तव्य तथा समाज के मूल्य, जिन्हों ने हमें अभी तक स्थापित रखा है, छोड़ कर अधिक जीवन में पाश्चात्य, व्यक्तिपरक तथा स्व केन्द्रित दृष्टिकोण अपना रहे हैं। यह आवश्यक है कि हम उन मूल मूल्यों को याद रखें जो कि सिंगापुर की विभिन्न नस्लों तथा विभिन्न धर्म के वासियों ने सिंगापुर को सिंगापुर बनाया है तथा जो उन के सिंगापुरवासी होने का तत्व हैं।


उन्हों ने चार मूल्यों को मौलिक बताया। यह है समाज को स्वयं से ऊपर रखना; परिवार को समाज का मूल रचनात्मक ईकाई मानना; अपने मतभेदों को विविाद के स्थान पर आपसी रज़ामंदी से तय करना; तथा नस्ली, धार्मिक सहिष्णुता तथा साम०जस्य। उन्हों ने कहा कि हम यह न भूलें कि हम एशिया के हैं तथा हमें वैसा ही रहना चाहिये न कि हम केवल नकलची बन कर जियें। सदि हम ने केवल नकल की तो हम अपनी मौलिकता, अपनी विशिष्टता खो दें गे जो हमें जीवन देती है।


क्या यह सब भारत पर लागू नहीं होता है। सोचिये।


2 views

Recent Posts

See All

संग्रहण बनाम जीवन

संग्रहण बनाम जीवन सभ्यता का आरम्भ मनुष्य द्वारा प्रकृति पर नियन्त्रण के प्रयास के साथ हुआ। जीवन को सुखमय बनाना ही लक्ष्य रहा। अग्नि को स्वयं प्रजलवित करने से शुरू हुआ यह अभियान काफी सफल हुआ किन्तु औद्

बौद्धिक वेश्या

बौद्धिक वेश्या — राम मोहन राय राजा राम मोहन राय को शिक्षा तथा समाज सुधारक के रूप में प्रचारित किया गया है। उन के नाम से राष्ट्रीय पुस्तकालय स्थापित किया गया है। परन्तु उन की वास्तविकता क्या थी, यह जान

हम सब एक की सन्तान हैं

हम सब एक की सन्तान हैं मौलाना अरशद मदानी ने कहा कि ओम और अल्लाह एक ही है। इस बात के विरोध में जैन साधु और दूसरे सदन से उठकर चले गए। हिंदू संतों ने इस का विरोध किया है। मेरे विचार में विरोध की गुंजाइश

bottom of page