top of page
  • kewal sethi

स्थानान्तर

स्थानान्तर


एक सफर, एक मुसाफिर, कौन जाने कि मंजि़ल किधर है।

गुम सुम उमंगें, खामोश हसरतें, किसे इस की फिकर है।।

जब कसदे सफर कर ही लिया तो फिर किसी से उनिसयत क्या।

शमा -ए- महफल बनना ही दस्तूर है,

तब इकरारे मोहबत क्या।।

न रोक मुझे मेरे माज़ी,

कुछ तो लिहाज़ कर मुस्तकबिल का।

चंद रोज़ यह कैद ए सैयाद सही,

सौदा तो नहीं उम्र भर का।।

कुछ और भी हैं मेरे मुंतज़मीन,

इक वाहिद लगावट है बेमानी।

गुलशन बेशुमार हैं हसीन,

जलवा तेरा नाकाबिले ब्यान ही सही।।

नित नई मुशिकलात से भिड़ना है

मेरी जि़दगी की दास्तां।

हूं मैं चलता मुसाफिर, रमता जोगी,

मौत मुझे कबूल नहीं।।

(उपरोक्त कविता रीवा से स्थानान्तर के अवसर पर लिखी गई थी। वैसे तो यह किसी भी स्थानान्तर पर पूरी उतरे गी परन्तु रीवा से तबादले के बाद आयुक्त का भी तबादला हो गया तथा नये आयुक्त ने मेरा तबादला कुछ समय के लिये रुकवा दिया। वह शायद आगे भी रुकवाने का प्रयास करते लेकिन उन की जो शर्त थी वह मुझे मान्य नहीं थी। अपनी पहल भावना को छोड़ना और किसी की आमदनी का ज़रिया बनना मेरे लिये कोई आकर्षण नहीं रखता था। और फिर चलना ही तो जीवन का नाम है।)

2 views

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Commentaires


bottom of page