• kewal sethi

सूत्री सरकार

सूत्री सरकार


परदेश से आये एक दोस्त ने चाही यह जानकारी

कैसी चल रही है यह सूत्री सरकार तुम्हारी

हम समझ नहीं पाये इन के कहने का क्या है मुद्दा

करते हैं शब्द का इस्तेमाल कुछ सोच समझ कर

सरकार तो हमारे यहाँ श्री राजीव गाँधी की है

प्रधान बदल गया हो पर अभी भी यह काँग्रैसी है

लहज़ा इस ओर हम ने ध्यान उन का दिलाया

हमारे यहाँ भी डैमोक्रसी है यह भी बतलाया

की अर्ज़ हम ने इस तरह हमारी छवि न बिगाड़ो

तब कहा उन्हों ने हमारी बात इस तरह न टालो

हर सरकार की एक नीति होती है एक प्रोग्राम होता है

दिये जाते हैं आदेश उन का पालन करना होता है

पर तुम्हारे देश में काम नहीं सिर्फ सूत्र हुआ करते हैं

उन्हीं से तुम्हारी प्रगति के बड़े बड़े एहलान होते हैं

वन विकास के लिये यहाँ पर चाौदह सूत्र बनाये जाते हैं

अगर करना हो कृषि का विकास तो वहाँ भी सूत्र बनाते हैं

ऊर्जा की बात हुई कि 12 सूत्र की बात आ ही जाती है

गर हो राष्ट्रीय एकता समिति की कहानी यही दौहराई जाती है

जिस तरफ देखें हम वही माहौल पाया जाता है

दिन रात सूत्रों का ही गुण गाण गाया जाता है

सब से शीर्ष पर है बीस सूत्री प्रोग्राम तुम्हारा

दिन रात टी वी पर देखा जाता है इसी का बोल बाला

जिसे देखो जपता है बस इस प्रोग्राम की माला

और कुछ नहीं बस इस का प्रचार है काम सरकारी

सूत्र ही रह गये हैं अब काम की नहीं है ज़िम्मेदारी

फिर क्यों न कहें इसे हम सूत्री सरकार तुम्हारी


(भोपाल 10.9.86 बीस सूत्री समिति की बैठक के बाद

संदर्भ स्पष्ट है। आपात काल में संजय गाँधी के चार सूत्री तथा सरकार के बीस सूत्री कार्यक्रम के धुआँधार प्रचार के बाद सभी मंत्रालयों ने इस बात के महत्व को समझा और हर एक अपने अपने सूत्र निकालने लगा। संदर्भवश संजय गाँधी और इंदिरा गाँधी कार्यक्रम को मिला का फोर एण्ड टवैण्टी कार्यक्रम कहा जाता था।)

1 view

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,