top of page
  • kewal sethi

सन्देश

my poem which is this time on contemporary event. sonia said recently that only rahul will decide his future.

this statement has a secret message. this poem tries to decipher it.

सन्देश

सोनिया ने आज कर दिया एहलान

राहुल ही तय करे गा अपना काम

कब उसे क्या करना है, वह जाने

और किसी की बात वह क्यों माने


शोर मचा रहे थे कांग्रैस के नेता छुटभैया

जल्दी से राहुल को लाओं ए मेरी मैया

उस के बिना कांग्रैस का सम्भव नहीं उद्धार

कब तक करते रहें हम आखिर इंतज़ार

निर्णय रुके पड़े हैं उस के न आने से

देर क्यों है उसे अपना हक जताने में

आखिर तो उस को आना है देर सवेर

कहीं हो न जाये इस बीच में अन्धेर

चुनाव अब दूर नहीं आ गया है पास

एक उसी पर है जमी बस अपनी आस

वह आये गा तो तभी बेड़ा हो पार

वरना डूब जायें गे हम बीच मंझधार


सोनिया का सन्देश है उन्हें समझाने को

सही तसवीर उन को औकात बताने को

शोर मत मचाओ यह नहीं है ज़रूरी

हो सकती है उस की कोई मजबूरी

केवल तुम को ही नहीं इस की फिकर

तुम्हें करना नहीं चाहिये इस का जि़कर

आखिर यह पार्टी है मेरी, मेरे परिवार की

इस में कोई मदद आप की दरकार नहीं

कहें कक्कू कवि सदैव रखो इस बात का ध्यान

बिन मांगे सलाह देना करे गा तुम्हें ही परेशान


केवल कृष्ण सेठी

20 जुलार्इ 2012

1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Opmerkingen


bottom of page