• kewal sethi

सन्देश

my poem which is this time on contemporary event. sonia said recently that only rahul will decide his future.

this statement has a secret message. this poem tries to decipher it.

सन्देश

सोनिया ने आज कर दिया एहलान

राहुल ही तय करे गा अपना काम

कब उसे क्या करना है, वह जाने

और किसी की बात वह क्यों माने


शोर मचा रहे थे कांग्रैस के नेता छुटभैया

जल्दी से राहुल को लाओं ए मेरी मैया

उस के बिना कांग्रैस का सम्भव नहीं उद्धार

कब तक करते रहें हम आखिर इंतज़ार

निर्णय रुके पड़े हैं उस के न आने से

देर क्यों है उसे अपना हक जताने में

आखिर तो उस को आना है देर सवेर

कहीं हो न जाये इस बीच में अन्धेर

चुनाव अब दूर नहीं आ गया है पास

एक उसी पर है जमी बस अपनी आस

वह आये गा तो तभी बेड़ा हो पार

वरना डूब जायें गे हम बीच मंझधार


सोनिया का सन्देश है उन्हें समझाने को

सही तसवीर उन को औकात बताने को

शोर मत मचाओ यह नहीं है ज़रूरी

हो सकती है उस की कोई मजबूरी

केवल तुम को ही नहीं इस की फिकर

तुम्हें करना नहीं चाहिये इस का जि़कर

आखिर यह पार्टी है मेरी, मेरे परिवार की

इस में कोई मदद आप की दरकार नहीं

कहें कक्कू कवि सदैव रखो इस बात का ध्यान

बिन मांगे सलाह देना करे गा तुम्हें ही परेशान


केवल कृष्ण सेठी

20 जुलार्इ 2012

1 view

Recent Posts

See All

चुनावी चर्चा बैठक में जब मिल बैठे लोग लुगाई चार होने लगी तब चल रहे चुनाव की बात पॉंच राज्यों में चुनाव की मची है धूम सब दल के नेता चारों ओर रहे हैं घूम किस का पहनाई जाये गी वरमाला किस सर सेहरा बंधे गा

चौदह दिन का वनवास मेरे एक मित्र का भाई है अमरीका में प्रवासी और था वह मेरा भी दोस्त, हम थे सहपाठी उसे भारत आना था, यह खबर थी उस की आई पर उस ने उस के बाद कोई खबर नहीं भिजवाई मित्र को फोन किया क्या बदल

the farm laws it happened sitting idle on a rainy day with not a single meeting in the way the memory of a saying long ago said came into mind and started a thread how the income of farmers be doubled