top of page
  • kewal sethi

विदाई भाषण

विदाई भाषण


दोस्तो

आज इस लिये हम ने सजाई है यह बज़्म

पूरी कर सकें हम एक प्यारी सी रस्म

मुíत से है यह रीत चली आर्इ

जाने वाले को मिल कर देते हैं विदाई

बघार्इ भी देते हैं विदा के साथ साथ

सेवा काल को किया बहुत कामयाबी से पार

जनाब गुप्ता ने बख्शा है हर मुकाम को नया रुतबा

रहे खुश मिज़ाज़ हमेशा न हुए किसी से खफ़ा

जनाब चारी की हर बात थी काबिले एहतराम

सुलझे नोट, पाये की बातें, सुन्दर हर काम

जनाब जे पी आर्इ ने ऐसे गुज़ारा सेवाकाल का हर पल

जैसे पानी में हमेशा रहता है अनछुआ कमल

तारीफ क्या करें हम जनाब एम एस खान की

अच्छा था काम जैसा वैसी ही नियत भी पाक थी

गो आ न सके जनाब बानी इस महफिल में आज

लेकिन उन की भी हमें आती है याद

पेश करें क्या अपनी दुआवों के सिवा हज़रात को

खुशो खुर्रम रहें हमेशा मय अपनी शरीके हयात के

जैसे गुज़री है हंसी खुशी अभी तक आगे भी गुज़र जाये

हमेशा स्वस्थ सुन्दर एकिटव जि़दगी आप बितायें

अर्ज है आखिर में केवल और उस की वाईफ की

करते हैं दुआ मिल कर सब आप की लम्बी लाईफ की


(7.10.92

भारतीय प्रशासन सेवा संघ को कभी कभी जोश आता है और वह सेवा निवृत हो रहे लोगों के लिये विदार्इ पार्टी का आयोजन करता है। ऐसा सब के लिये नहीं होता। 1992 में यह हुआ तो एक साथ कई लोगों को विदाई दी गई। उन के नाम तो आ ही चुके हैं। यह कविता लिखी तो गई पर पढ़ी गई या नहीं यह याद नहीं। पर यह न मानें कि इस में सच ही सच बोला गया है।)

1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Comentarios


bottom of page