• kewal sethi

वार्तालाप

दो महिलाओं का वार्तालाप

क. तुम ने रेाका नहीं उसे

ख. अरे, बहुत रोका।

क. कुछ कह सुन का मना लेती।

ख. क्या मनाती। अनुनय विनय भी की। पर बे सूद।

क. इतने साल का साथ था, फिर भी।

ख. हॉं कितने साल हो गये। सुख दुख में, बीमारी में, त्येाहारों में साथ साथ रहे।

क. बच्चों की देख भाल भी किये।

ख. हॉं जी। बच्चे भी खुश थे।

क. ज़रूर कोई और आकर्षण रहा हो गा।

ख. वह तो हो गा ही वरना इस तरह से थोडे़ ही कोई निकल लेता है।

क. तो अब?

ख. अपना तो यही कहना है जहॉं रहे खुश रहे।

क. और तुम्हारा क्या हो गा?

ख. मेरा क्या होना है। काम वाली बाईयों की कमी थोड़े ही है। और मिल जाये गी।


17 views

Recent Posts

See All

कत्ल के बाद आई जी साहब की प्रैस वार्ता चल रही थी। उन्हों ने फरमाया - आप को जान कर खुशी हो गी कि हैड कॉंस्टेबल मथुरा दास के कत्ल की गुत्थी हम ने चार दिन में ही सुलझा ली है। शौकत और हर दीप को गिरफतार कि

ऑंखों देखी कानों सुनी (अस्सी की दशक में लिखी गई) मैं यहॉं पर एक अधीक्षण यन्त्री और ओवरसियर के बीच हुई गुफ्तगू के बारे में बताने जा रहा हूॅं। यह वार्तालाप मेरे और तीन और व्यक्तियों के सामने हुआ था। इन

जादू का डिब्बा घर में महाभारत छिड़ा हुआ था। पति पत्नि दोनों ही दफतर में काम करते थे। पति और पत्नि में कुछ दिनों से अनबन चल रही थी। इस कारण धर का माहौल कुछ गड़बड़ा गया था। उस दिन पति महोदय घर आये तो काफी