• kewal sethi

यूँ होता तो क्या होता

यदि .........

गालिब का एक शेर है

हुई मुद्दत कि मर गया गालिब मगर वह याद आता है

उसका हर बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता


क्या आप ने भी कभी सोचा है कि यूँ होता तो क्या हाता। उदाहरण के तौर पर मान लें कि महात्मा बुद्ध के ज़माने में आजकल का अधिकारी उन के साथ उस समय नियुक्त होता जब वह सिद्धार्थ थे, तो क्या होता। आप को याद होगा कि एक ज्योतिषी की भविष्यवाणी के बाद उन को महल में ही रखा गया था। शादी भी हो गई, बेटा भी हो गया, पर दुनिया नहीं देखी। फिर पता नहीं एक दिन वह कैसे नगर सम्पर्क अभियान पर निकल पड़े।

सब से पहले एक बुड्ढा मिला। कमर झुकी हुई, कमज़ोर, लाचार।

सिद्धार्थ ने पूछा यह कौन?

उत्तर मिला वृद्ध।

क्या मैं भी ऐसा हो जाऊँ गा, सिद्धार्थ ने जिज्ञासा की।

अधिकारी ने कहा ''क्या बात करते हैं। आप तो राजा हैं। आप ऐसे कैसे हो सकते हैं। यह तो नगरवासियों के लिये विशेष है''।

फिर एक बीमार आदमी मिला। वहाँ भी ऐसी ही बात।

फिर एक शव यात्रा दिखाई दी। पूछा यह कौन?

उत्तर मिला यह व्यक्ति मर गया है। इसे जलाने के लिये ले जा रहे हैंं।

सिद्धार्थ ने कहा क्या मैं भी मर जाऊँ गा।

अधिकारी ने कहा ''श्रीमान जी, मरें आप के दुश्मन। आप तो अमर हैं। आप ने पुण्य ही पुण्य कमाया है। सभी समाचारपत्र देख लीजिये। आप की प्रशंसा ही हो रही है। कोई भी आप के सामने टिक नहीं सकता। मृत्यु की तो बात ही क्या है। कम पुण्य वाले मिथिला (वर्तमान में बिहार) नरेश कुछ भी न करके अमर हैं। फिर आप कैसे मर सकते हैं''।

सिद्धार्थ संतुष्ट हो कर महल में वापस लौट आये।

दूसरे दिन समाचारपत्रों में छपा कि उन का नगर सम्पर्क अभियान सफल रहा। ऊपर खबर भिजवाई गई कि सब ठीक ठाक है। चिन्ता की कोई बात नहीं। आगे भी सफलता निशिचत है।

2 views

Recent Posts

See All

न्यायाधीशों की आचार संहिता

न्यायाधीशों की आचार संहिता केवल कृष्ण सेठी (यह लेख मूलत: 7 दिसम्बर 1999 को लिखा गया था जो पुरोने कागज़ देखने पर प्राप्त हुआ। इसे ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है) सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्या

यक्ष प्रश्न

यक्ष प्रश्न सितम्बर 2021 ताल पर जल लाने चारों भाई यक्ष के प्रश्नों का उत्तर न देने के कारण जड़वत कर दिये गये। तब युधिष्ठर को जाना पड़ा। यक्ष के प्रश्नों का उत्तर देने को वह तैयार हो गये। होशियार तो थे ह

घर बैठे सेवा

घर बैठे सेवा कम्प्यूटर आ गया है। अब सब काम घर बैठे ही हो जायें गे। जीवन कितना सुखमय हो गा। पर वास्तविकता क्या है। एक ज़माना था मीटर खराब हो गया। जा कर बिजली दफतर में बता दिया। उसी दिन नहीं तो दूसरे दि