• kewal sethi

मेरा नाम खान है

मेरा नाम खान है


इरादा तो है की रोज़ कुछ न कुछ लिखें चाहे कितना छोटा ही क्यूँ न हो। लिखने के लिए इतनी बातें हैं। आज की बात ही लें, "मेरा नाम खान है" चल चित्र को अधिकतर अख़बारों ने पांच स्टार दिए हैं। पिक्चर अभी रिलीज़ होना है। पर जिस पिक्चर को शिव सेना ने गलत करार दिया है, उसे इस से कम क्या दें गे। हमें कहानी, एक्टिंग, फोटोग्राफी थोड़े ही देखनी है। उस के लिये तो रिलीज़ होने की प्रतीक्षा करना हो गी।


कोई भी पिक्चर हो जिस में या तो भारत को गलत तरीके ला पेश किया गया हो जैसे की स्लामदाग मिलेनेअर या वाटर या कोई और, उसे तो हमारे क्रिटिक को पसंद करना ही है। इसी तरह से यदि कोई पिक्चर मुस्लिम दृष्टिकोण को बताये तो उस को भी अच्छा बताना आवश्यक है। यही प्रगतिवाद है। पर यह तो रोज़ होता है इस लिए इस के बारे में अधिक लिखना बेकार है।

1 view

Recent Posts

See All

न्यायाधीशों की आचार संहिता

न्यायाधीशों की आचार संहिता केवल कृष्ण सेठी (यह लेख मूलत: 7 दिसम्बर 1999 को लिखा गया था जो पुरोने कागज़ देखने पर प्राप्त हुआ। इसे ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है) सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्या

यक्ष प्रश्न

यक्ष प्रश्न सितम्बर 2021 ताल पर जल लाने चारों भाई यक्ष के प्रश्नों का उत्तर न देने के कारण जड़वत कर दिये गये। तब युधिष्ठर को जाना पड़ा। यक्ष के प्रश्नों का उत्तर देने को वह तैयार हो गये। होशियार तो थे ह

घर बैठे सेवा

घर बैठे सेवा कम्प्यूटर आ गया है। अब सब काम घर बैठे ही हो जायें गे। जीवन कितना सुखमय हो गा। पर वास्तविकता क्या है। एक ज़माना था मीटर खराब हो गया। जा कर बिजली दफतर में बता दिया। उसी दिन नहीं तो दूसरे दि