top of page
  • kewal sethi

मैम्बर साहब की होली

i was commissioner of the division, a pivotal post. it attracted people. then got transferred to board of revenue, in the same city. this new post was in a loop line, what difference it made on the occassion of holi is described in this poem.


मैम्बर साहब की होली


होली के दिन बैठे रहे, मलते रहे हाथ

होली खेलने आया न कोई, बीत गई प्रभात

सोचते कल तक कैसी शान की होली थी

हंसी मज़ाक था भरपूर, टोली पर टोली थी

कहें कक्कू कवि, यह सब वक्त की है बोली

कल तक रंग बिरंगी थी आज सूखी है होली


आयुक्त थे जब हम, खूब था रंगा रंग

मिलने वाले अनेक थे, खेलें जिन के संग

खेलें जिन के संग, अब तो सूना सूना है

बोर्ड की मैम्बरी ने लगाया खूब चूना है

कहें कक्कू कवि, क्यों किया मैम्बर नियुक्त

शान से होली खेलते होते अगर आयुक्त


(होली - 1985)

1 view

Recent Posts

See All

महापर्व

महापर्व दोस्त बाले आज का दिन सुहाना है बड़ा स्कून है आज न अखबार में गाली न नफरत का मज़मून है। लाउड स्पीकर की ककर्ष ध्वनि भी आज मौन है। खामोश है सारा जहान, न अफरा तफरी न जनून है कल तक जो थे आगे आगे जलूसो

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

Comments


bottom of page