• kewal sethi

मैम्बर साहब की होली

i was commissioner of the division, a pivotal post. it attracted people. then got transferred to board of revenue, in the same city. this new post was in a loop line, what difference it made on the occassion of holi is described in this poem.


मैम्बर साहब की होली


होली के दिन बैठे रहे, मलते रहे हाथ

होली खेलने आया न कोई, बीत गई प्रभात

सोचते कल तक कैसी शान की होली थी

हंसी मज़ाक था भरपूर, टोली पर टोली थी

कहें कक्कू कवि, यह सब वक्त की है बोली

कल तक रंग बिरंगी थी आज सूखी है होली


आयुक्त थे जब हम, खूब था रंगा रंग

मिलने वाले अनेक थे, खेलें जिन के संग

खेलें जिन के संग, अब तो सूना सूना है

बोर्ड की मैम्बरी ने लगाया खूब चूना है

कहें कक्कू कवि, क्यों किया मैम्बर नियुक्त

शान से होली खेलते होते अगर आयुक्त


(होली - 1985)

1 view

Recent Posts

See All

चुनावी चर्चा बैठक में जब मिल बैठे लोग लुगाई चार होने लगी तब चल रहे चुनाव की बात पॉंच राज्यों में चुनाव की मची है धूम सब दल के नेता चारों ओर रहे हैं घूम किस का पहनाई जाये गी वरमाला किस सर सेहरा बंधे गा

चौदह दिन का वनवास मेरे एक मित्र का भाई है अमरीका में प्रवासी और था वह मेरा भी दोस्त, हम थे सहपाठी उसे भारत आना था, यह खबर थी उस की आई पर उस ने उस के बाद कोई खबर नहीं भिजवाई मित्र को फोन किया क्या बदल

the farm laws it happened sitting idle on a rainy day with not a single meeting in the way the memory of a saying long ago said came into mind and started a thread how the income of farmers be doubled