top of page
  • kewal sethi

ब्रेकिंग न्यूज़

ब्रेकिंग न्यूज़


श्री सुमन्त की सार्वजनिक हित याचिका राजकीय सर्वोच्च पंचायत ने विचारार्थ स्वीकार कर ली है तथा राजा दशरथ, श्रीमती कैकेयी राघव, श्री राम राघव तथा श्री भरत राघव को नोटिस दिया गया है कि वे पंचायत के समक्ष उपस्थित हो कर अपना पक्ष रखें।


श्री सुमन्त ने अपनी याचिका में कहा है कि राजा दशरथ द्वारा अपनी पत्नि कैकेयी को दिये गये वचन एक निजी इकरारनामा था जिस को कोई सम्बन्ध उन के राजकीय दायित्व से नहीं है। इस कारण इस के अन्तर्गत ऐसा आदेश पारित करना अवैधानिक है जिस का सम्बन्ध राजकीय कार्य से हो।


उन की यह भी दलील है कि श्री राम राघव हर प्रकार से राजा बनने के योग्य हैं। इस सम्बन्ध में उन्हों ने विश्वामित्र के यज्ञ की रक्षा करने का उल्लेख किया। उन्हों ने यह भी कहा है कि जिस प्रकार श्री राम राघव ने शिव धुनष भंजन के पश्चात श्री परशु राम के आक्षेपों का समाधान किया था, उस से उन की राजनैतिक परिपक्वता परिलक्षित होती है। उन का पंचायत से अनुरोध है कि राजा दशरथ के आदेश को निरस्त करते हुए श्री राम राघव को राजा घोषित किया जाये।


प्रकरण की अगली सुनवाई शुक्ल पक्ष की नवमी को हो गी। तब तक के लिये सर्वोच्च पंचायत ने राजा दशरथ के आदेश के कि्रयान्वयन पर रोक लगा दी है।


पंचायत ने श्रीमती सीता राघव तथा श्री लक्ष्मण राघव के बन गमन पर कोई आदेश देने से इंकार कर दिया है तथा कहा है कि इस का कोई सम्बन्ध राजा दशरथ के आदेश से नहीं है। विस्तृत आदेश की प्रतीक्षा की जा रही है।

2 views

Recent Posts

See All

तलाश

तलाश क्या आप कभी दिल्ली के सीताराम बाज़ार में गये हैं। नहीं न। कोई हैरानी की बात नहीं है। हॉं, यह सीता राम बाज़ार है ही ऐसी जगह। शायद ही उस तरफ जाना होता हो। अजमेरी गेट से आप काज़ी हौज़ की तरफ जाते हैं तो

चाय - एक कप

चाय - एक कप महफिल जम चुकी थी पर दिलेरी नदारद था। ऐसा होता नहीं था। वह तो बिल्कुल टाईम का ध्यान रखता था। लंच टाईम आरम्भ होने के सात मिनट पहले वह घर से लाई रोटी खा लेता था और समय होते ही महफिल की ओर चल

दिलेरी और जातिगणना

दिलेरी और जातिगणना इस चुनाव के मौसम में दोपहर में खाना खाने के बार लान में बैठ कर जो मजलिसें होती हैं, उन का अपना ही रंग है। कुछ तो बस ताश की गड्डी ले कर बैठ जाते हैं। जब गल्त चाल चली जाती है तो वागयु

Comments


bottom of page