• kewal sethi

बसन्त ऋतु आ गई है

बसन्त ऋतु आ गई है


कलैण्डर देख कर मुझे पता चला कि

बसन्त ऋतु आ गई है

यूँ तो मुँह अंधेरे ही उठ कर

पकड़नी पड़ती है कोई लोकल

पत्थरों, लोहे, तारों से गुज़र कर

पहुँच जाता हूँ कारखाने में वक्त पर

जहाँ दिन को भी जला कर बत्ती काम करते हैंं

(यानि अपने पेट के लिये ईधन का इंतज़ाम करते हैं)

और शाम को गहराते हुए अंधेरे में

जब थका थका सा लौट आता हूँ

घरेलू तकाज़ों को किसी तरह

फुसला कर, धमका कर टाल जाता हूँ

यहाँ तक कि हफतावारी नागा आ जाता है

लम्बी फहरिस्त से झूझने में ही दिन निकल जाता है

किसे फुरसत है कि मौसम का पता लगाये

कौन जाने कब बहार आती है कब खजाँ जाये

बारिश का पता चल जाता है क्योंकि

कपड़ा छाते का जो बदलना पड़ता है

सर्दी का भी पता चलता है क्योंकि

पुरानी रज़ाई में पैवंद लगवाना पड़ता है

गर्मी याद दिला जाती है पसीना बहा कर

पर बसन्त का पता चलता है

सिफऱ् कलैण्डर पर निगाह कर

(12.1.79 - रेल गाड़ी में)

2 views

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,