• kewal sethi

बजट कटौती

i remember that in जीम eighties, the madhya pradesh government had made a habit of announcing a cut of ten percent in the budget for all departments. the finance secretary was in charge of enforcing these cuts.

the comedy arose when he brought this habit of ten percent cut to home. i have put this in a poem. here it is.

बजट कटौती

(अफसर जब दफतर का काम करता है तो घर भी दफतर की ही समस्याओं को ले जाता है। वह वहाँ भी उस की प्रतिक्रिया तय करती हैं। इसी का एक उदाहरण)


बीवी बोली एफ एस से कुछ सुन रहे हैं आप

या दफतर के ख्यालों में ही खोये रहते हैं जनाब

मुझे अगले सप्ताह ही जाना है अपने मायके

पी ए को कह देना लखनऊ की सीट बुक करा दे

अब ऐसे नाक भौं मत सिकोड़ो नया नहीं है इरादा

चार साल बाद आ रहे हैं अमरीका से अपने भैया

भाभी भतीजों से हम जा कर गप्पें लड़ायें गे

वह कहें गी अमरीका की हम भोपाल का बतायें गे

अब इस में बिगड़ने की क्या बात है भला

साल के शुरू में ही तुम को दिया था मैं ने बता

एफ एस बोले तुम गल्त समझी हो मुझे डियर

तुम्हारे मायके जाने का प्रोग्राम है बिल्कुल क्लीयर

पर जानती हो आज कल क्या हाल है

एक तरफ महंगाई दूसरी ओर सूखे की मार है

सरकार की हालत पतली है दिया है यह संदेश

दस प्रतिशत कटौती का हो गया है जारी आदेश

छोड़ो अपना राग पुराना मिलाओ मेरे सुर में सुर

दस प्रतिशत कटौती देखते हुए हो आओ तुम कानपुर

अगले साल अेावरड्राफ्ट न रहा तो लखनऊ जायें गे

अगर सरप्लस हुआ बजट तो बरेली की टिकट कटायें गे

(15.4.88)

2 views

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,