top of page
  • kewal sethi

प्याज़ जिन्दाबाद

प्याज़ जिन्दाबाद


जवाहर लाल नेहरू ने कहा था कि भारत प्रजातंत्र है सब से बड़ा

उन्हें क्या मालूम था कि यह है केवल प्याज़ की कीमत पर खड़ा

आलू प्याज़ के दामों पर से चुनाव में बदल जाया करें गी सरकारें

समाजवाद, साम्यवाद, पूंजीवाद के बोसीदा हो जायें गे सब नारे

1980 में इंदिरा गांधी ने इसी मुद्दे पर दुष्मनों के छक्के छुड़ाए

1998 में सोनिया गांधी ने चुनाव मैदान में इसी पर चौके लगाए

भ्रष्टाचार कोई मुद्दा नहीं है न बेईमानी पर अब हो सकती है बात

रेवडि़यां जो बटी अपनों में हज़म हो जाएँ गी ले प्याज़ का नाम

मतदाताओं को मूर्ख बनाने को काम में लायें गे नए नए अंदाज़

अवसर मिला था भुनाने का सब नाराज़गी को वह हो जाए गा बरबाद

दाम तो पुराने ढर्रे पर आयें गे पर भाजपा के सपने हो जायें गे चूर

सफलता कितनी पास आती है पर रहती है फिर भी कितनी दूर

कहें कक्कू कवि आईये मिल कर प्याज़ के नाम पर नारा लगायें

खुदा सलामत रखे प्याज़ की कीमत चाहे जान निकल जाए

(16.11.99)


1 view

Recent Posts

See All

सफरनामा हर अंचल का अपना अपना तरीका था, अपना अपना रंग माॅंगने की सुविधा हर व्यक्ति को, था नहीं कोई किसी से कम कहें ऐसी ऐसी बात कि वहाॅं सारे सुनने वाले रह जायें दंग पर कभी काम की बात भी कह जायें हल्की

बहकी बहकी बात जीवन क्या है, छूटते ही भटनागर ने पूछा। ------जीवन एक निकृष्ठ प्राणी है जो मैट्रिक में तीन बार फेल हो चुका है। गल्ती से एक बार उसे बाज़ार से अण्डे लाने को कहा धा। बेवकूफ गाजर और मूली उठा

चुनावी चर्चा बैठक में जब मिल बैठे लोग लुगाई चार होने लगी तब चल रहे चुनाव की बात पॉंच राज्यों में चुनाव की मची है धूम सब दल के नेता चारों ओर रहे हैं घूम किस का पहनाई जाये गी वरमाला किस सर सेहरा बंधे गा

bottom of page