top of page
  • kewal sethi

नेतृत्त्व

नेतृत्त्व


नेतृत्त्व की संकल्पना जिस रूप में इस समय हमारे देश में व्याप्त है वह कुछ एक पाश्चात्य विचारकों की देन है जिन का वास्तविक आधार सत्ता की राजनीति रहीं है। जब से हमें स्वतंत्रता मिली तथा देश में लोक शक्ति की प्रतीक लोकसभा तथा विधानसभाओं इत्यादि के लिए बहुसंख्यक वोटों के आधार पर चुनाव की प्रणाली आरंभ हुई, सत्ता के लिये संघर्ष आरंभ हो गया। तभी से स्वार्थ की पूर्ति प्रधान लक्ष्य बन गया, राजनीति एक ‘कोठा’ बन गई। दूसरों को खिला कर तब खाने की हमारी भारतीय अवधारणाएं पीछे छूट गई। सारा गड्डमड्ड हो गया। इस स्थिति में यह विचार करना आवश्यक हो गया है कि हमारा नेतृत्व कौन करें - सन्त, विचारक अथवा वे जिन की दृष्टि सत्ता प्राप्त करने तक सीमित रहती है। देशहित तथा राष्ट्रहित पीछे छूट जाता है। ‘मैं’ की भावना प्रबल हो जाती है। सत्य पर सभ्यता तथा भावना पर व्यवहारपटुता हावी हो जाती है।


इस का एक मात्र समाधान यह है कि उस शक्ति को जागृत किया जाये जिसे हम भूल चुके हैं। सत्य के अन्वेषण, समाज के कल्याण की जो भावना हमारे मनीषियों में थी, उसे जागृत किया जाये। जब स्वार्थ को त्याग कर जन कल्याण की बात सोची जाये गी, तभी व्यक्ति नेतृत्व के लिये योग्य हो गा।


निस्सवार्थ नेतृत्व का एक उदाहरण का उल्लेख करना उचित हो गा। इटली की राजनीतिक एकता के नायक थे जोसेफ मैजिनी। उन्हों ने अपने धुआंधार प्रचार से इटली की एकता के लिए संघर्ष किया. उन के प्रयास से इटलीवासियों में एकता की भावना जागृत हुई। जब आस्ट्रिया से प्रत्यक्ष युद्ध का अवसर आया तो उन्हों ने कहा कि यह सही है कि आप मुझे नेता मानते हैं परंतु युद्ध शास्त्र मेरा क्षेत्र नहीं है। इस के लिए गैरीबाल्डी ही उपयुक्त होंगे। उन्हें सैनापति बनाया जाये और मैं उन के अधीन कार्य करूंगा।


गैरीबाल्डी ने युद्ध में विजय प्राप्त की। रोम में प्रवेश किया और घोषित निर्णय के अनुसार विक्टर एमेन्यूल का राज्याभिषेक किया। उस के बाद उन्हों ने अनुमति मांगी कि अब देश को राजनीति और कूटनीति की आवश्यकता है और यह काम आप के प्रधानमंत्री कैहर ही कर सकते हैं। मुझे छुट्टी दी जाए ताकि मैं अपने गांव कैप्री जा कर खेती करूं। यदि आवश्यकता हो तो मुझे फिर बुलाया जा सकता है।


इस प्रकार के नेता जो अपनी सीमाएं भी जानते हैं तथा जिन के मन में इस प्रकार के त्याग की भावना रहती है तथा जिन में अपने राष्ट्र के प्रति इस प्रकार की भावना होती है वही असली नेतृत्व कर सकते हैं।


(लेख श्री देवेश चन्द्र द्वारा एक पुस्तक ‘नेतृत्व’ के परिचय से तथा पुस्तक में के एक लेख पर आधारित है। परन्तु पूर्णतः नकल नहीं है। पुस्तक के लेखक हैं भानु प्रताप शुक्ल)


1 view

Recent Posts

See All

संग्रहण बनाम जीवन

संग्रहण बनाम जीवन सभ्यता का आरम्भ मनुष्य द्वारा प्रकृति पर नियन्त्रण के प्रयास के साथ हुआ। जीवन को सुखमय बनाना ही लक्ष्य रहा। अग्नि को स्वयं प्रजलवित करने से शुरू हुआ यह अभियान काफी सफल हुआ किन्तु औद्

बौद्धिक वेश्या

बौद्धिक वेश्या — राम मोहन राय राजा राम मोहन राय को शिक्षा तथा समाज सुधारक के रूप में प्रचारित किया गया है। उन के नाम से राष्ट्रीय पुस्तकालय स्थापित किया गया है। परन्तु उन की वास्तविकता क्या थी, यह जान

हम सब एक की सन्तान हैं

हम सब एक की सन्तान हैं मौलाना अरशद मदानी ने कहा कि ओम और अल्लाह एक ही है। इस बात के विरोध में जैन साधु और दूसरे सदन से उठकर चले गए। हिंदू संतों ने इस का विरोध किया है। मेरे विचार में विरोध की गुंजाइश

bottom of page