• kewal sethi

दिल आज फिर

दिल आज फिर


दिल आज फिर गमगीन है कोई नगमा गाईये

है तकाज़ा यह हाल का फिर कोई जाम उठाईये

मुद्दतें हुई हैं हम से बहारों को जुदा हुए

कब तक याद की लाशों को गले लगाईये

बुझ चुकी है आग सिर्फ राख है अब बाकी

क्यों मार मार कर फूंकें दिल अपना जलाईये

याद रह रह कर तड़पा जाती है गुज़रे दौर की

भूलता नहीं है वह ज़माना, चाहे कितना भुलाईये

अब शहरे खामोशां ही है हमारी किस्मत में

क्यों छेड़ कर कोर्इ साज़ इन्हें आज सताईये

बैठा हूं मैं तो तुम्हारे ही इंतज़ार में ए रकीब

अब आप ही आ कर दिल इन का बहलाईये

टूट जाता है दिल, पड़ती है जब भी चोट कोई

शीशों से नाज़ुक है यह, क्यों इन्हें आज़माईये

रुक गई है इक मोड़ पर आ के रफ़्तारे जि़ंदगी

अब आप ही इस को नई मंजि़ल दिखाईये

औरों का दिल क्या बहलाओ गे आज तुम कक्कू कवि

कर के कोशिश अपनी यह मन्हूसियत तो मिटाईये

(रेल गाड़ी - फरवरी 1986)


1 view

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,