• kewal sethi

दुलहन

दुलहन


नई नवेली दुलहन सुसराल में आई

पिया की दुलारी सब के मन को भाई

होशियार थी, समझदार थी, नेक थी

हज़ारों नहीं लाखों में वह एक थी

मानो केटरिंग की तो वह बी ए थी

डैकोरेटिंग की भी उस के पास डिग्री थी

सारे घर को वह लगी संवारने सजाने

पुरानी बातों को छोड़ नई चीज़ें लगी लाने

जेठ जी के कमरे में था जो गुलदस्ता

जिस से वह कई सालों से थे वाबस्ता

खिड़की के पास उन्हों ने उसे लगा रखा था

हर रोज़ बदलते पानी, सुन्दर सा बना रखा था

एक दिन बहु ने उठा कर कोने में दिया लगा

लिहाज़ कर कुछ न बोले कहें बहु से क्या

पर चुभती थी उन के दिल में सदा यह बात

जहाँ था अच्छा था जगह बदलने का था क्या राज़

एक दिन फिर उसे खिड़की के पास लगा दिया

बहुरानी ने पूरा घर चीखोंपुकार से हिला दिया

बोली मेंरा तो यहाँ पर होता नहीं अब गुज़र

मैं चली मायके आराम से रहे हर बशर

सुन कर उस की बातें कक्का भी रह गये हैरान

और पता नहीं क्यों चला गया वी पी की ओर ध्यान

देवी लाल ने भी बस अपना बंगला सजाया था

मनपसंद चीज़ को मनपसंद जगह पर लगाया था

इस में ज़रूरत कहाँ थी इतनी चीखोपुकार की

देना इस तरह मैके की धमकी बेकार थी

पर यह मानना पड़े गा कि असर हुआ पुरज़ोर

सब मनाने लगे बहु को अपना काम छोड़

नई बहु का मैके जाने में सब का नुकसान था

विदेशी बहु के हाथ का खाने का पूरा इमकान था

गरज़ सब ने मिल कर बहु को मना लिया

जैठ जी ने अपना गुलदस्ता पुनः हटा लिया


(नागपुर 1990 - बार बार वी पी सिंह प्रधान मंत्री त्यागपत्र देने की धमकी देते थे, उसी के संदर्भ में यह कविता लिखी गई। देवी लाल के बंगले को ले कर काफी शोरो गुल हुआ था। सम्भवतः हुआ यह था कि उन्हों ने अपने बंगले में भैंसे पाल ली थीं तथा बंगले को उस माफिक ढाल रहे थे।)

6 views

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,