top of page
  • kewal sethi

दिलेरी - 2

दिलेरी - 2

दिलेरी की जाति की महफिल सजी हुई थी। आज का विषय था चंद्रचूड़ का नया निर्णय। एक ने कहा कि यह बताईये कि स्त्री ने तो यह नहीं कहा था कि वह परपुरुष के साथ सम्बन्ध नहीं बनाये गी पर क्या यह सूत्र पुरुषों पर भी लागू होता है क्या। क्या हमें भी सम्बन्ध बनाने की अनुमति मिल गई है।

दूसरे ने कहा क्या कहते हो। क्या तुम गॉंधी जी को जानते हो। पहले ने कहा कि उन्हें भूलने कौन देता है। रोज़ तो उस के नाम पर बखेड़ा होता है। दूसरे ने कहा तो तुम्हें उन का प्रिय भजन भी पता हो गा। वैष्णव जन तो तैने कहिये। उस में कहा गया है ‘‘परस्त्री जाने मात रे’। बताओं कहीं पर ऐसा भजन है क्या कि ‘पर पुरुष माने बाप रे’। सारा साहित्य देख मारो, यह नहीं मिले गा। इस लिये लगता है कि जज महोदय को शादी की पूरी सात कस्मे याद हैं । उन में कहीं भी पर पुरुष के बारे में नहीं कहा गया है। अब पता नहीं कि यह फारमूला उन के घर पर भी चलता है कि नहीं। चलता ही हो गा तभी कानून की किताबें छान मारी हों गी।

दिलेरी कूद पड़ा। उस ने कहा कि भई मैं ने तो बीवी को कह दिया कि ब्वाय फ्रैण्ड डूॅंढ लो। पर चाल ही उलटी पड़ गई। मैं ने तो सिर्फ यह शर्त रखी थी कि जिस को भी ब्वायफ्रैण्ड बनाओ, पहले 200 लिट्टर वाले फ्रिज की मॉंग कर लेना। अपना 160 वाला तो अब बारह साल पुराना हो गया है। दहेज़ में मिला था। दो बार मरम्मत भी हो चुकी है। अब तो नया ही चाहिये। पर बीवी भी कमाल की चीज़ है। कहने लगी कि वह तो मैं कह दूॅं गी, कोई दिक्कत नहीं है। पर किसी को पकड़ने के लिये कुछ अपने को संवारना हो गा। साड़ी का कहती हूॅं तो झट से अगले वेतन कमीशन की बात कर देते हो। यह कमबख्त पे कमीशन भी कुम्भ मेेले की तरह है। बारह साल में आता है। ऐसा करो कि कहीं से जुगाड़ कर एक अच्छी सी साड़ी ले दो। बस तीन हज़ार की ही हो गी। उस दिन शीला बता रही थी। अब भई अपने पास तीन हज़ार होते तो हम इस ब्वायफ्रैण्ड के चक्कर में थोड़े ही पड़ते। सो हमारा प्रस्ताव बजट के अभाव में फेल हो गया।

फिर विषय पे कमीशन पर चला गया।


12 views

Recent Posts

See All

स्वीटी

स्वीटी स्वीटी पंजाबी लड़की थी। या यूॅं कहना चहिये कि वह पंजाबी मॉं बाप की बेटी थी। पैेदाईश तो उस की इंगलैण्ड में हुई थी। पली बढ़ी भी वहीं थी और शिक्षा भी वहीं पाई थी। पर वह कहते हैं न कि जोड़ियॉं इंगलैण्

पुरानी कहानी, नया रूप

पुरानी कहानी, नया रूप एक बुजर्ग व्यक्ति ने मरते समय अपने 19 ऊॅंटों को इस प्रकार अपने बेटों में बॉंटा। सब से बड़े बेठे को आधे, मंझले बेटे को चौथा हिस्सा और छोटे बेटे को पॉंचवॉं हिस्सा देने की वसियत की।

दयावान

दयावान एक वार्तालाप जो इस दुनिया से बाहर का है। सब्ज़ी मार्क्रट जाते हुये शार्टकट लेते हुय मैं एक छह फुट चौड़ी गली से निकलता हूॅं। इस की कोेई खास वजह नहीं है। बस यह कहें कि एक आदत बन गई है। उस दिन जब नि

bottom of page