top of page
  • kewal sethi

दिलेरी और राम चन्द्र

दिलेरी और राम चन्द्र


बैठक में किसी ने कहा, रामचन्द्र वापस आ गये।

- क्यों कितने दिन की छुट्टी पर था।

- अरे, मैं उस रामचन्द्र की बात नहीं कर रहा।

- और कितने रामचन्द्र हैं अपने दफतर में

- पागल हो, मैं दफतर की बात नहीं कर रहा। मैं अयोध्या की बात कर रहा हूॅं।

- ओह, भगवान राम की। तो ऐसा बोलो न। पर वह गये कहॉं थे जो वापस आ गये।

- यह लाक्षणिक भाषा है।

- मतलब

- मतलब यह कि केवन किसी बिन्दु को स्पष्ट करने के लिये ऐसा कहा जाता है।

- यानि कि सीधे बात न कह कर उलटी बात कहते है ताकि सीधी बात समझ में आ जाये।

- सही समझे

- जैसे हमारेे दफतर में होता है। वज़न रखने से फाईल की रफतार बढ़ती है।

- समझने वाले तुरन्त समझ जाते हैं कि क्या कहा जा रहा है। और हम कहते भी नहीं।

- मतलब आ गये तो आ गये। अब कहीं जायें गे नहीं।

- सही समझे।

- चलिये हम भी वापस चलते हैं, अपने डैस्क पर। जहॉं के थे, वही रहें गे।


21 views

Recent Posts

See All

जापान का शिण्टो धर्म

जापान का शिण्टो धर्म प्रागैतिहासिक समय में यानी 11,000 ईसा पूर्व में, जब जापानी खेती से भी बेखबर थे तथा मवेशी पालन ही मुख्य धंधा था, तो उस समय उनकी पूजा के लक्ष्य को दोगू कहा गया। दोगु की प्रतिमा एक स

देर आये दुरुस्त आये

देर आये दुरुस्त आये जब मैं ने बी ए सैक्ण्ड डिविज़न में पास कर ली तो नौकरी के लिये घूमने लगा। नौकरी तो नहीं मिली पर छोकरी मिल गई। हुआ ऐसे कि उन दिनों नौकरी के लिये एम्पलायमैण्ट एक्सचेंज में नाम रजिस्टर

टक्कर

टक्कर $$ ये बात है पिछले दिन की। एक भाई साहब आये। उस ने दुकान के सामने अपने स्कूटर को रोंका। उस से नीचे उतरे और डिक्की खोल के कुछ निकालने वाले ही थे कि एक बड़ी सी काली कार आ कर उन के पैर से कुछ एकाध फु

Comentarios


bottom of page