• kewal sethi

तारीक गलियाँ

तारीक गलियाँ


ताजिर थे वह मगरिब के

जिन के लिये इनसान सरमाया थे

सियासत दान थे यह मशरिक के

इन्हें बस वोट बैंक नज़र आते थे

न कोई हजूम था सड़कों पर

न जि़ंदाबाद मुर्दाबाद के नारे थे

गलियाँ थी सारी सूनी सूनी

न जाने किस दर्द के यह मारे थे

मायूसी थी चारों इतराफ छाई हुई

इक अजीब सा नज़ारा था

पड़ोसी पड़ोसी से अजनबी था

न जाने किस का क्या इरादा था


उन तारीक रूहों में कब कोई झाँक पाया है

जिन्हों ने तरक्की इंसान के नाम पर सब लुटाया है

कौन किस का हिस्सेदार बन पाया है दुख उठाने के लिये

यहाँ हर एक ने अपना अपना सलीब खुद ही उठाया है

घूम के देख आया मैं उन गलियों में इक सयाह की तरह

कब कौन किस के दुख का भागी दार बन पाया है


(अधूरी कविता

एक साम्प्रदायिक दंगे के बाद)

2 views

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,