top of page
  • kewal sethi

तूफान

तूफान


इक तूफान था इक जि़जि़ला सब को पामाल कर गया

जाये स्कूं कोई न बची सब को खस्ता हाल कर गया

चली ऐसी हवा कि सब तरफ रह गई बस बरबादियां

न रहा कोई अहले सफर न रह पाया कोई आशियां

हवाले कयामत हुआ हर शख्स वहीं पर, जहां था

हुआ मुल्के अलमौत के सुपर्द जो ज़द्दे तूफां आ गया

शमालो जनूब मशरिको मगरिब सब की बदनसीबी थी

जिस तरफ चल उठा सैलाब वही राहे बरबादी थी

न रहा कुछ भी बस इक नाला फुगां रह गया

सुना जिस ने यह किस्सा बरबादी सकता रह गया


(नवम्बर 1984 - पता नहीं सिक्खों के खिलाफ चले अभियान का जि़कर है या किसी प्राकृतिक कोप का। पर अधूरा ही है।)

2 views

Recent Posts

See All

लंगड़ का मरना (श्री लाल शुक्ल ने एक उपन्यास लिखा था -राग दरबारी। इस में एक पात्र था लंगड़। एक गरीब किसान जिस ने तहसील कार्यालय में नकल का आवेदन लगाया था। रिश्वत न देने के कारण नकल नहीं मिली, बस पेशियाँ

अदानी अदानी हिण्डनबर्ग ने अब यह क्या ज़ुल्म ढाया जो था खुला राज़ वह सब को बताया जानते हैं सभी बोगस कमपनियाॅं का खेल नार्म है यह व्यापार का चाहे जहाॅं तू देख टैक्स बचाने के लिये कई देश रहते तैयार देते हर

सफरनामा हर अंचल का अपना अपना तरीका था, अपना अपना रंग माॅंगने की सुविधा हर व्यक्ति को, था नहीं कोई किसी से कम कहें ऐसी ऐसी बात कि वहाॅं सारे सुनने वाले रह जायें दंग पर कभी काम की बात भी कह जायें हल्की

bottom of page