top of page
  • kewal sethi

तराना इण्डिया

तराना इण्डिया


बंगलुरु के सुहाने मौसम में मिल कर संकल्प ठहराया है

दूर हटो मोदी भाजपा वालो, हम ने इण्डिया नाम धराया है

इण्डिया अब नाम हमारा, तुम्हारा अब यहॉं क्या काम है

इण्डिया की गद्दी छोड़ो, इस लिये अपनाया यह नाम है


ममता . मैं सारे इण्डिया को बना दूॅं गी पश्चिम बंगाल।

नितीश — सारे भारत का हो गा बिहार जैसा हाल बेहाल।

स्टालिन — सभी राज्यों के राज्यपालों को मिट्टी में मिला दूॅं गा।

राहुल — प्रधान मन्त्री कोई भी बने रिमोट तो मैं ही रखूॅं गा।

पवार — अब राजनीति में भतीजावाद नहीं चलने दूॅं गा।

गेहलोत — किसी निकम्मे को प्रधान मन्त्री बना दूॅं गा।

पिनारयी — सिर्फ केरल छोड़ कर बाकी तुम्हारा।

केजरीवाल — दिल्ली हमारी, इण्डिया भी हमारा।


कोरस — जो सब से पीछे हो गा, वही तो परम पद पाये गा।

वोटर की करें ऐसी तेसी, कुर्सी पर गर बिठाये गा।


ममता — जीता है जैसे पंचायती चुनाव वही गुर अपनाऊॅं गी

मिल जाये दिल्ली की गद्दी सब को नाच नवाऊॅं गी

नितीश — सब को जमा कर मैं तो अपना रुतबा बढ़ाऊॅं गा

पटना सौंपूॅं तेजस्वी को दिल्ली में जम जाऊॅं गा

स्टालिन — नहीं दिल्ली से मुझको मतलब दिल्ली तो है दूर

बस पुराने चोला अधिराज सा बनना मुझे मंज़ूर

राहुल — मैं रहूॅं आगे, मेरी मॉं हो साथ में और हो प्रियंका

इतनी सी आशा हमारी ताल पर नाचे भारत अपना

पवार — भतीजा कहता है अस्सी के हो गये अब लो सन्यास

तम्मना बस आखिरी अपनी बेटी के सर पर हो ताज

केजीवाल — राज्यपाल से मिले छुटकारा, बनूॅंं गर प्रधान मन्त्री

राज्यपालों की रोज़ क्लास से भरी हो ज्रिदगी अपनी

पिनारयी — साम्यवाद तो आने से रहा पर साम्यवादी कहलाऊॅं

दुबई से मंगा कर सोना सोने की नगरी मैं बनाऊॅं


कोरस — जो सब से पीछे हो गा, वही तो परम पद पाये गा।

वोटर की करें ऐसी तेसी, कुर्सी पर गर बिठाये गा।

21 views

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Comments


bottom of page