top of page
  • kewal sethi

चुनावी चर्चा

चुनावी चर्चा


बैठक में जब मिल बैठे लोग लुगाई चार

होने लगी तब चल रहे चुनाव की बात

पॉंच राज्यों में चुनाव की मची है धूम

सब दल के नेता चारों ओर रहे हैं घूम

किस का पहनाई जाये गी वरमाला

किस सर सेहरा बंधे गा फूलों वाला

हर एक की थी अपनी राय अपनी सोच

सब ने लगाई अपने अनुमानों की दौड़

पोलराईज़ेशन के हैं दिखते सारे आसार

शायद इसी से हो गी चुनाव नैया पार

किसान बहुत नाराज़ हैं दें गे गहरी घात

पर शायद गुंडागर्दी रुकने से बने गी बात

किसी ने कहा चाहे हो जो भी अंजाम

माहौल बिगाडना नहीं रहा कोई थाम

इतनी नीचे स्तर गिरे गा, यह तकलीफ

इस दाम मिली भी तो क्या हो गी जीत

बस नफरत ही फैलाते हैं इन के सारे बोल

कभी मज़हब कभी जाति का बजाते ढोल

कुछ ने कहा बिखर जाये गे मुस्लिम वोट

भाजपा को नहीं, अपनों को दें गे चोट

पैसे की यह सब माया है एक ने फरमाया

और पैसा तो है बस सत्ता दल ने ही पाया

किसी का मत था आप दल लगाये गा सेंध

पंजाब में, गोवा में उन के चल रहे अच्छे पेंच

उत्तराखण्ड में भी वे शायद आ जाये ऊपर

ख्ेाल बिगाड़ने को उन को मिले गा अवसर

अमरिन्दर क्या कमल उगा पाये गे पंजाब में

चन्नी कॉंग्रैस की किश्ती खे लें गे सैलाब में

बोले एक मान अब नहीं कामेडिन न शराबी

उस की बात में दम है मान लें गे पंजाबी

रैलियों पर रोक कुछ को अच्छी लगी बात

शोर शराबा कम हो तो वोटर पाये आराम

एक ने कहा कि रैलियॉं तो होती ही हैं बेकार

अमरीका में नहीं निकलती यह एक भी बार

सब टैलीवीज़न पर ही हो, उन का ख्याल

शॉंति हो चारों ओर, न कोई शोर न बवाल

या फिर आन लाईन ही हो सारा मतदान

जो भी चाहे ज़ोर लगा कर मार ले मैदान

न पुलिय कंट्राल चाहिये न बूथ की ज़रूरत

जल्दी में निपट जाये निकालें ऐसा महूरत

जाने कैसे बात ने रुख पलटा आया नया विचार

चुनाव की सब गड़बड़ी में है छाया भ्रष्टाचार

अगर कारपोरेट पर ऐसा फंदा जाये डाला

किसी को दे कर चंदा न कर पायें घोटाला

एक विचार था डिजिटल करंेसी औषध महान

किस ने किस को दिया हो जाये गी पहचान

ब्लाकचेन ही है सब मुसीबतों का समाधान

सब जानें गे कौन था हम में से बेईमान

पर किसी ने कहा नहीं यह कोई इलाज

फ्रण्ट कम्पिनियॉं बन जायें गी बेशुमार

इतना घुमायें गी हो जाये गी सरकार परेशान

जब तक पता लगा पायें हो जाये गा बंटाधार

एक ने कहा हैद्राबाद से एक सर्वे है आया

पॉंचों ही राज्यों में हो गा भाजपा का सफाया

पर अन्य उत्तर प्र्रदेश को मानते थे इस से बाहर

कम सीट मिलें शायद पर नाव हो जाये गी पार

आखिर में इस पर खतम हुई थी सारी बात

हम तो वोट देने चलें, सो बातों की एक बात

कहें कक्कू कवि समय काटने का अच्छा तरीका

होना तो वही है जो मतदान के मन है बसया


केवल कृष्ण सेठी

11 जनवरी 2022


2 views

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

bottom of page