top of page
  • kewal sethi

घबराहट

घबराहट


आज पियुश आ रहा है मुझे लेने के लिये - बाप ने बेटे से कहा।

- यह तो बड़ी अच्छी बात है।

- हो गी ही। मुझ से छुटकारा जो मिले गा।

- मैं ने यह कब कहा। मेरा तो मतलब था हवा बदल जाये गी तो आप को अच्छा लगे गा।

- बेटा, मैं ने धूप में बाल स्फैद नहीं किये। बीवी बच्चे सभी को राहत हो गी मेरे जाने से।

- अब आप तो ऐसे ही बात करते हो। क्या कसर रखी हैं हम ने और पियुश ही कौन आवभगत करे गा।

- उसे कुछ नहीं हुआ है। हर बार इसरार कर के ले जाता है।

- और तीन हफते में वापस भी भेज देता है।

- वह तो मेरे ज़ोर देने पर ही, वरना .......

- वरना क्या?

- वह तो मुझे थोड़ी तकलीफ होती हे न ऊपर नीचे जाने में न, इस लिये।

- अब पियुश की भी मजबूरी है। सरकारी क्वार्टर है। पहली मंज़िल पर अलाट हुआ है तो दिक्कत तो हो गी ही। और आप बैठ तो सकते नहीं।

- अब भई, जीवन में और क्या रखा है, किसी से मिलें न तो कोफत तो होती है। पर .....

- पर क्या?

- वहाॅं पर लोग बड़े अजीब हैं, कोई बात कर के राज़ी ही नहीं होता। सब अपने में मस्त हैं। इस लिये ही तो लैटना पड़ता है।


अब दूसरा पहलू देखें।


- हाॅं मनीश, गाड़ी थोड़ी लेट चल रही है। शायद दिल्ली में धुन्ध के कारण और लेट हो जाये।

- चलो, आ तो रहे ही हो। पिता जी तो तुम्हारी राह देख रहे हैं।

- उन का फोन भी आया था। एक घण्टा आगे पीछे क्या। उतावले हो जाते हैं।

- यहाॅं उन का मन नहीं लगता। पीछे महीने ही तो भोपाल से आये थे और अब फिर जाने की ज़िद कर रहे हैं।

- और वहाॅं कौन से खुश रहते है। चार बार नीचे उतरते हैं और हर बार किसी का सहारा चाहिये।

- भाभी कैसे मैनेज कर लेती है, समझ नहीं आता। और यहाॅं यह है कि घर में आराम नहीं पड़ता।

- वह तो उन की आदत ही है।

- छोटा घर है और और बच्चे अब कालेज जाते हैं, उन्हें पढ़ाई के लिये अलग अलग कमरा चाहिये।

- जगह की कमी तो है ही और आजकल बच्चे एक कमरे में बन्द नहीं रहना चाहते।

- केाशिश तो करते हैं।

- अब भाई, अपना ज़माना थोड़ा है। एक कमरे में सात लोग रह लेते थे। अब तो सब को अपना कमरा चाहिये।

- यह मेरी ही बात थोड़ी है। हर घर में यही हो रहा है। हम ने कभी इस के बारे में सोचा नहीं।

- और पिता जी का क्या प्रोग्राम है। अब के कितने दिन रहें गे।

- क्यों, अभी से घबरा गये क्या

- मैं नहीं, घबराहट तो उन को होती है। तीसरे दिन से ही।

- वहाॅं कोई साथी नहीं मिलता न। कह रहे थे हर कोई अपने में मस्त रहता है।

- अब यह तो आज का चलन है। सब के अपनी अपनी मुश्किल है। वह ज़माना गया जब राह चलते को राम राम कर लेते थे।

- उम्र का भी तो सवाल है। अब तो संगी साथी भी एक एक कर जा रहे हैं।

- सही है, अब तो वक्त काटना है। ऐसे में सब्र करना चाहिये। और वह उन के बस की बात नहीं।

- - अच्छा तो शाम को मिलते हैं। अभी तो दफतर का वक्त हो गया है।



13 views

Recent Posts

See All

देर आये दुरुस्त आये

देर आये दुरुस्त आये जब मैं ने बी ए सैक्ण्ड डिविज़न में पास कर ली तो नौकरी के लिये घूमने लगा। नौकरी तो नहीं मिली पर छोकरी मिल गई। हुआ ऐसे कि उन दिनों नौकरी के लिये एम्पलायमैण्ट एक्सचेंज में नाम रजिस्टर

टक्कर

टक्कर $$ ये बात है पिछले दिन की। एक भाई साहब आये। उस ने दुकान के सामने अपने स्कूटर को रोंका। उस से नीचे उतरे और डिक्की खोल के कुछ निकालने वाले ही थे कि एक बड़ी सी काली कार आ कर उन के पैर से कुछ एकाध फु

प्रतीक्षा

प्रतीक्षा यॅू तो वह मेरे से दो एक साल छोटी थी पर हम एक ही कक्षा में थे। इस से आप यह अंदाज़ न लगायें कि मैंं नालायक था और एक ही कक्षा में दो एक साल रह कर अपनी नींव को पक्की करना चाहता था। शायद बाप के तब

Comments


bottom of page