• kewal sethi

कोरोनावायरस


कोरोनावायरस


हम सोये थे किस दुनिया में, किस ने हमें जगा दिया

हम समझते रहे जीवन है इक सफर का स्थायी सिलसिला

सुबह से शाम तक रफतार का था हमारा जनूनो हौसला

रुकना मौत की निशानी, यह था हमारा पूरा फलसफा

इक वायरस ने आ कर सभी को झंझकोर दिया

जीवन को उलटा कर दिया, इक नया मोड़ दिया

अपनों से दूरी अब मोहब्बत की इलामत बन गई

सड़क पर दौड़ती ज़िदगी जैसे अचानक थम गई

यह धर्म के, यह महज़ब के झगड़े बेमानी हो गये

यह मंदिर, यह मसजिद, यह चर्च बन्द हो गये

हर तर्फ दहशत, हर तर्फ दिखती है आसमानी बला

क्या था, क्या हो गया, कौन कह सकता है भला

अगड़े पिछड़े देशों का भेद अब अर्थहीन है

जो था कल का गुमान भरा, आज मसकीन है

सैंकड़ों में नहीं, हज़ारों में मौतो का शुमार हो रहा

कब किस की आ जाये बारी, कहना दुश्वार हो गया

विज्ञान पर, तकनालोजी पर था जिन का दारो मदार

प्रकृति की इक ठोकर ने कर दिया उन्हें भी शर्मसार

कौन कह सकता है, कब तलक चले गा कुदरत का यह दौर

परेशान है सभी अभी, देखें कायम रहे गा कितने दिन और

कहें कक्कू कवि, यह वक्त भी आखिर गुज़र जाये गा

देखना तो बस इतना है, क्या आदमी सुधर जाये गा

3 views

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,