• kewal sethi

कारन तथा परिणाम

कारन तथा परिणाम


"न बाग़ में आये गी मधुमक्खी और न जल कर मरे गा पतंगा " ,


"न रहे गा बांस न बजे गी बांसुरी , यह तो सुना था पर यह मधुमक्खी का क्या सम्बन्ध है पतंगे से "

"सोचना दूर की चाहिए . शतरंज के खेल में वो ही जीतता है जो आगे की दस चालों का अनुमान लगा कर चलता है . मधुमक्खी बाग में क्यों आती है ? फूलों का पराग चूसने . उस का क्या करती है ? उस से शहद बनाती है . फिर शहद के लिए मधुमक्खी के छत्ते को तोड़ा जाता है . इस से शहद निकला जाता है और जो बचता है , वो होता है मोम . मोम से मोमबत्ती बनायीं जाती है . जब मोमबत्ती जलती है तो पतंगा उस की और आकर्षित होता है और उस की लौ में जल कर मर जाता है . तो सीधी सी बात है - यदि परवाने की जान बचाना है तो मधुमक्खी को ही बागीचे में जाने से रोकना हो गा .

पुस्तक 'यह वो सहर तो नहीं ' - पंकज सुबीर - पृष्ट 82)

2 views

Recent Posts

See All

न्यायाधीशों की आचार संहिता

न्यायाधीशों की आचार संहिता केवल कृष्ण सेठी (यह लेख मूलत: 7 दिसम्बर 1999 को लिखा गया था जो पुरोने कागज़ देखने पर प्राप्त हुआ। इसे ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है) सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्या

यक्ष प्रश्न

यक्ष प्रश्न सितम्बर 2021 ताल पर जल लाने चारों भाई यक्ष के प्रश्नों का उत्तर न देने के कारण जड़वत कर दिये गये। तब युधिष्ठर को जाना पड़ा। यक्ष के प्रश्नों का उत्तर देने को वह तैयार हो गये। होशियार तो थे ह

घर बैठे सेवा

घर बैठे सेवा कम्प्यूटर आ गया है। अब सब काम घर बैठे ही हो जायें गे। जीवन कितना सुखमय हो गा। पर वास्तविकता क्या है। एक ज़माना था मीटर खराब हो गया। जा कर बिजली दफतर में बता दिया। उसी दिन नहीं तो दूसरे दि