top of page
  • kewal sethi

कारण तथा परिणाम

कारण तथा परिणाम

"न बाग़ में आये गी मधुमक्खी और न जल कर मरे गा पतंगा "

"न रहे गा बांस न बजे गी बांसुरी , यह तो सुना था पर यह मधुमक्खी का क्या सम्बन्ध है पतंगे से "

"सोचना दूर की चाहिए . शतरंज के खेल में वो ही जीतता है जो आगे की दस चालों का अनुमान लगा कर चलता है . मधुमक्खी बाग में क्यों आती है ? फूलों का पराग चूसने . उस का क्या करती है ? उस से शहद बनाती है . फिर शहद के लिए मधुमक्खी के छत्ते को तोड़ा जाता है . इस से शहद निकला जाता है और जो बचता है , वो होता है मोम . मोम से मोमबत्ती बनायीं जाती है . जब मोमबत्ती जलती है तो पतंगा उस की और आकर्षित होता है और उस की लौ में जल कर मर जाता है . तो सीधी सी बात है - यदि परवाने की जान बचाना है तो मधुमक्खी को ही बागीचे में जाने से रोकना हो गा .

(पुस्तक 'यह वो सहर तो नहीं ' - पंकज सुबीर - पृष्ट 82)


1 view

Recent Posts

See All

budget 2023-24 as i said in another context, overnight experts emerge when an event happens. this is also true for annual budget exercise. it is said that on the afternoon of febuary 1, there are 2.33

how to reduce road congestion recently dilli banned the use of bs 3 vehicles as the pollution level had shot up. whether this solved the problem or not, is known only to the authorities and even they

fighting the celebrity india worships the celebrities. the celebrity possesses all the virtues and does not have a single fault. even when the fault stares you in the eye, we refuse to see them. k p

bottom of page