top of page
  • kewal sethi

कवि की होली

कवि की होली


सोच रहा था बैठे बैठे होली कैसे मनाऊँ

अन्त यही सोचा कि कविता कोई बनाऊँ

कविता ही तो आखिर कवि की होली है

रंग है यह पिचकारी है हंसी है ठिठोली है


नहीं अपने पास और कुछ कविता ही तुम सुनाओ

डरते नहीं हैं लोग रंग से कविता से उन्हें डराओ

छोड़ दो कविता की बौछाड़ रंग डालने जब कोई टोली आये

उधर आये रंग की पिचकारी इधर से कविता की गोली जाये


देखो तीन मिनट में ही होता है मैदान क्लीयर

इतने में भीग गये तो - अरे मत घबराओ डीयर

रंग तो साबुन से धुल जायें गे कपड़े यह फट जायें गे

पर कविता सुन कर गये जो जीवन भर पछतायें गे

फिर तुम से होली खेलने का नाम न लें गे घबरायें गे

न ही तुम को कविता पढ़ने होली की सभा में बुलायें गे

(हरदा - 7 मार्च 1966)

1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Comments


bottom of page