• kewal sethi

कमज़ोर व्यकितत्व


कमज़ोर व्यकितत्व


मेरे कंधे बहुत नाज़ुक हैं न तुम उन्हें आज़माओ

रहने दो इन्हें अपनी हालत पर न इन से बोझ बढ़ाओ

करते हैं गुज़ारा किसी तरह क्यों नई बात बताते हो

मत इन्हें ईमान के जनाज़े में साथ ले जाने को बुलाओ

जो है सो ठीक है अपनी जगह पर अभी तक

मत इन पर रख कर बंदूक तुम अपनी चलाओ

मेरे कंधे बहुत नाज़ुक हैं न तुम उन्हें आज़माओ


मेरी ज़ुबान नाज़ुक है फिसल फिसल जाती है

हज़ार समझाता हूं पर यह कहां मान पाती है

देखती है जब कोई चीज़ कायदे के खिलाफ होते हुए

कर देती है बोलना शुरू, ज़रा न यह रुक पाती है

यह बेचारी इतनी सी बात भी नहीं समझ पाती है

मेरी ज़ुबान नाज़ुक है फिसल फिसल जाती है


मेरे हाथ नाज़ुक हैं बार बार रुक जाते हैं

बताता हूं जो लिखने को वह न लिख पाते हैं

जतलाया है मैं ने इन्हें कितनी बार दुनिया को देखो

कैसे चारों इतराफ लोग अपना काम चलाते हैं

किसी फाईल पर इंकार के लफ़्ज़ न लिखते कभी

न जाने क्यों यह दोरुखी नोट नहीं लिख पाते हैं

मेरे हाथ नाज़ुक हैं बार बार रुक जाते हैं


मेरे पांव नाज़ुक हैं उस राह पर नहीं चल पाते

जिस राह पर आज सभी लोग तेज़ी से हैं जाते

कदम बोसी के लिये जाने वालों की कतारें लगीई

उन के राहे कदम में लोग बिछ बिछ जाते हैं

दण्डवत करते पांव छूते लोग काम निकलवाते हैं

इस में कहीं उन के असूल न कभी आड़े आते हैं

मेरे पांव नाज़ुक हैं उस राह पर नहीं चल पाते हैं


मेरा मन नाजु़क है, इस से है बड़ी परेशानी

सब कुछ जानता हुआ भी छोड़ता नहीं अपनी नादानी

आज धर्म ईमान क्या हैं लफ़्ज़ हुए यह बेमानी

चारों तरफ कुंबा परस्ती, रिशवत खोरी और बेईमानी

दुनिया की, ऐशो इशरत की कीमत कब इस ने जानी

उठो तुम भी शामिल हो जाओ छोड़ो जि़द पुरानी

मगर

मेरा मन नाजु़क है, इस से है बड़ी परेशानी


(भोपाल - अप्रैल 1986)

2 views

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,