• kewal sethi

ईरान और आणविक शक्ति

ईरान ने घोषणा की है की अब वह आणविक राष्ट्र है। इस पर टिप्पणी करते हुए इंडियन एक्सप्रेस में लेख है कि यह ईरान की वास्तविक चुनौतिओं का समाधान नहीं है। यह अजीब बात है कि जब हिन्दुस्थान आणविक शक्ति का प्रयोग विद्युत् उत्पादन के लिए करना चाहता है तो यह हमारी समस्याओं का समाधान माना जाता है पर जब ईरान ऐसा करना चाहता है तो यह सही नहीं है। ऐसा क्यूँ ।


कहा है कि वो अपने युवकों को रोज़गार देने की स्थिति में भी नहीं है। तो क्या भारत में सब को रोज़गार मिल चुका है कि वो आणविक शक्ति का प्रयोग कर सकता है। वास्तव में हम ने इस पर सही दृष्टि से सोचना छोड़ दिया है तथा केवल पश्चिम द्वारा बताया गया राग अलापना चाहते हैं। पाश्चात्य देश तो यह चाहते ही हैं कि एशिया के देश हमेशा पिछड़े रहें पर हमें इस में क्यूँ रुचि होना चाहिए।


अमरीका इत्यादि को डर है कि कहीं ईरान आणविक बम्ब न बना ले। अगर वह बना भी लेता है तो उस से क्या अंतर पड़ता है। हम यह मान कर क्यूँ नहीं चल सकते कि ईरान भी उतना ही ज़िम्मेदार हो गा जितना कि पश्चिम के देश हैं। ज़रुरत इस बात की है कि हम अपने मन से सोचें और केवल दूसरों की बुद्धि से सोचना छोड़ दें।

2 views

Recent Posts

See All

न्यायाधीशों की आचार संहिता

न्यायाधीशों की आचार संहिता केवल कृष्ण सेठी (यह लेख मूलत: 7 दिसम्बर 1999 को लिखा गया था जो पुरोने कागज़ देखने पर प्राप्त हुआ। इसे ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है) सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्या

यक्ष प्रश्न

यक्ष प्रश्न सितम्बर 2021 ताल पर जल लाने चारों भाई यक्ष के प्रश्नों का उत्तर न देने के कारण जड़वत कर दिये गये। तब युधिष्ठर को जाना पड़ा। यक्ष के प्रश्नों का उत्तर देने को वह तैयार हो गये। होशियार तो थे ह

घर बैठे सेवा

घर बैठे सेवा कम्प्यूटर आ गया है। अब सब काम घर बैठे ही हो जायें गे। जीवन कितना सुखमय हो गा। पर वास्तविकता क्या है। एक ज़माना था मीटर खराब हो गया। जा कर बिजली दफतर में बता दिया। उसी दिन नहीं तो दूसरे दि