top of page
  • kewal sethi

अहंकार

अहंकार


एक स्थान पर पढ़ा कि राम जब अयोध्या लौटे तो कौशल्या माता ने कहा, ‘‘रावण को मार आये’’। राम ने उत्तर दिया - उसे मैं ने नहीं मारा, उसे ''मैं'' ने मार दिया।


कहने का अर्थ यह है कि रावण को उस के अहंकार ने मारा। वह अपने को अति बलवान समझता था। उस ने अपने भाई तक को नाराज़ कर दिया, उस की बात नहीं मानी। और फिर उस ने उस भाई को शत्रु पक्ष में जाने से भी नहीं रोका क्योंकि उसे अभिमान था कि वह अजेय है तथा विभीषण के जाने से भी कोई लाभ शत्रु को होने वाला नहीं है।


यह ‘मैं’ केवल रावण के लिये ही नहीं, सभी के लिये लागू होता है। करण को अपनी दानवीरता का अभिमान था। जब कृष्ण ने उस से सूर्य द्वारा प्रदत्त कवच की माँग की तो वह इंकार नहीं कर पाया यद्यपि उसे ज्ञात हो गया कि माँगने वाला शत्रु पक्ष का है तथा वस्तुतः दान का पात्र नहीं है।


यही बात बाली के लिये भी लागू होती है। जब वामन ने उस से तीन पग भूमि माँगी तो उस के गुरू शुक्राचार्य समझ गये कि इस के पीछे क्या चाल है। उन्हों ने बाली को समझाने का प्रयास किया किन्तु बाली की ज़िद थी कि वह दान देने के अपने वचन से नहीं हटे गा। फलस्वरूप उसे अपने राज्य से वंचित होना पड़़ा।


हरिशचन्द्र के साथ भी यही हुआ। सत्यवादिता का दम भरते हुए वह अपने राज्य से वंचित हुआ, अपनी पत्नि को दूसरे की दासी बनाना पड़ा।


अधिक आगे आयें तो पृथ्वीराज को अपनी वीरता का अहंकार था। इस कारण मोहम्मद गौरी को बन्दी बनाने के पश्चात भी छोड़ दिया तथा अपने राज्य में लौटने दिया।


जब औरंगज़ेब ने अपने पिता शाहजहाँ के बीमार होने पर व्रिदोह कर दिया और दिल्ली की ओर कूच किया तो उस समय तक शाहजहाँ ठीक हो चुका था किन्तु दारा ने स्वयं को ही सक्षम मानते हुए उसे युद्ध में जाने से रोक दिया। परिणाम सामने है।


संसार की अधिकतर त्रासदियाँ (या सुखद घटनायें, दूसरे पक्ष की बात सोचें तो) अहंकार के कारण ही हुई हैं।

5 views

Recent Posts

See All

जापान का शिण्टो धर्म

जापान का शिण्टो धर्म प्रागैतिहासिक समय में यानी 11,000 ईसा पूर्व में, जब जापानी खेती से भी बेखबर थे तथा मवेशी पालन ही मुख्य धंधा था, तो उस समय उनकी पूजा के लक्ष्य को दोगू कहा गया। दोगु की प्रतिमा एक स

उपनिषदों में ब्रह्म, पुरुष तथा आत्मा पर विचार -3

उपनिषदों में ब्रह्म, पुरुष तथा आत्मा पर विचार (गतांश से आगे) अब ब्रह्म तथा आत्मा के बारे में उपनिषदवार विस्तारपूर्वक बात की जा सकती है। मुण्डक उपनिषद पुरुष उपनिषद में पुरुष का वर्णन कई बार आया है। यह

उपनिषदों में ब्रह्म, पुरुष तथा आत्मा पर विचार -2

उपनिषदों में ब्रह्म, पुरुष तथा आत्मा पर विचार (पूर्व अ्ंक से निरन्तर) अब ब्रह्म तथा आत्मा के बारे में उपनिषदवार विस्तारपूर्वक बात की जा सकती है। बृदनारावाक्य उपनिषद आत्मा याज्ञवल्कय तथा अजातशत्रु आत्

Comentários


bottom of page