top of page
  • kewal sethi

असली सरकार

here is the first of my poems.

many a time, people want to know, who is government. is it the minister? is it the secretary to government.

here is the answer.



1. असली सरकार


(14 वर्ष की सेवा के बाद निदेशक बन जाना चाहिये। मेरे प्रकरण में यह तिथि 1 मई थी। जब जून 77 तक आदेश नहीं हुये तो लोगों ने कारण जानना चाहा। इसी का उत्तर यहाँ दिया गया है। - दो सहायक आपस में बात कर रहे हैं।)


सेठी साहब डायरेक्टर बन गये

नहीं बने

बन गये

नहीं बने

क्यों, क्या हुआ, कैसे हुआ

क्या अपने जे एस से झगड़ पड़ा

और सी आर उस का बिगड़ गया

क्या मंत्री से उस की सटक गई

या परसनल में गाड़ी अटक गई

क्या कैबिनैट कमेटी तय न कर पाई

या फिर विजिलैंस ने है टाँग अड़ाई

क्या पी एम लंदन चले गये

या नियम ही हैं बदल गये

नहीं भई

ऐसा कुछ भी हुआ नहीं

कोई अप्रिय घटना घटी नहीं

फाईल पर एडवर्स नोट नहीं

डायरैक्टर बनने पर रोक नहीं

बस हुआ यह कि क्या बतायें

अब तुम से क्या छुपायें

सब मरहले तय कर लिये

सारे दस्खत प्राप्त कर लिये

लेकिन तभी ऐसी बात हुई

जिस से सब को मात हुई

असिसटैंट छुठ्ठी पर चला गया

फाईल को वह दबा गया

अब जब वह वापिस आये गा

फिर ही आडर्र निकल पाये गा

तब तक ई एम, पी एम के दस्खत हैं बेकार

सच है असिसटैण्ट ही है असली सरकार

(दिल्ली - जून 1977)



1 view

Recent Posts

See All

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

नई यात्रा

नई यात्रा फिर आई यात्रा एक, यात्रा से कब वह डरता था। लोक प्रसिद्धी की खातिर वह पैदल भी चलता था। तभी तलंगाना से बस मंगा कर यात्रा करता था एलीवेटर लगा कर बस में वह छत पर चढ़ता था ऊपर ऊपर से ही वह जनता के

Comments


bottom of page