• kewal sethi

अधूरे गीत

this poem was written in 1987. has the situation worsened or improved since that year? is the poem still relevant. let us know.


अधूरे गीत


पूछते मित्रवर मुझ से क्या है यह बात

अधूरे रहते गीत तुम्हारे नहीं बनती बात

हो रहा चारों ओर इतना, छोड़ता मन पर छाप

पर शब्दों में ढल न पाता है मन का झंझावात

उठती हैं कई तरंगें होती है हिल्लौर

पर हाथ रुक रुक जाता, नहीं चलता इस पर ज़ोर

मरज़ हो चुका लाइलाज हद से बढ़ गई बीमारी

छोड़ो दवा दारु अब, करो मरघट की तैयारी

दिल कहता लिखो कह दो बात अपने मन की

मस्तिष्क कहता रुको रुको लोग कहें गे सनकी

मन कहता आवाज़ उठाओ राज़ यह सारे खोलो

मस्तिष्क कहता बस्ती बहरों की मत कुछ बोलो

हो रही है चारों इतराफ़ लूट मार है भारी

इन स्फैदपोशों की दिखला दो यह अय्यारी

मरीज़ चला गया कोमा में यह लौट न पाये गा

चाहे कल मरे या परसों या सालों कष्ट पाये गा

नहीं उम्मीद कुछ अब मत समय बरबाद करो

हो सके तो कर प्रार्थना ईश्वर को तुम याद करो

शायद गीता में दिया गया वचन वह निभाये

ले कर अवतार फिर भारत की आन बचाये


(भोपाल 14.2.87)

1 view

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,