• kewal sethi

अधूरे गीत

this poem was written in 1987. has the situation worsened or improved since that year? is the poem still relevant. let us know.


अधूरे गीत


पूछते मित्रवर मुझ से क्या है यह बात

अधूरे रहते गीत तुम्हारे नहीं बनती बात

हो रहा चारों ओर इतना, छोड़ता मन पर छाप

पर शब्दों में ढल न पाता है मन का झंझावात

उठती हैं कई तरंगें होती है हिल्लौर

पर हाथ रुक रुक जाता, नहीं चलता इस पर ज़ोर

मरज़ हो चुका लाइलाज हद से बढ़ गई बीमारी

छोड़ो दवा दारु अब, करो मरघट की तैयारी

दिल कहता लिखो कह दो बात अपने मन की

मस्तिष्क कहता रुको रुको लोग कहें गे सनकी

मन कहता आवाज़ उठाओ राज़ यह सारे खोलो

मस्तिष्क कहता बस्ती बहरों की मत कुछ बोलो

हो रही है चारों इतराफ़ लूट मार है भारी

इन स्फैदपोशों की दिखला दो यह अय्यारी

मरीज़ चला गया कोमा में यह लौट न पाये गा

चाहे कल मरे या परसों या सालों कष्ट पाये गा

नहीं उम्मीद कुछ अब मत समय बरबाद करो

हो सके तो कर प्रार्थना ईश्वर को तुम याद करो

शायद गीता में दिया गया वचन वह निभाये

ले कर अवतार फिर भारत की आन बचाये


(भोपाल 14.2.87)

1 view

Recent Posts

See All

चुनावी चर्चा बैठक में जब मिल बैठे लोग लुगाई चार होने लगी तब चल रहे चुनाव की बात पॉंच राज्यों में चुनाव की मची है धूम सब दल के नेता चारों ओर रहे हैं घूम किस का पहनाई जाये गी वरमाला किस सर सेहरा बंधे गा

चौदह दिन का वनवास मेरे एक मित्र का भाई है अमरीका में प्रवासी और था वह मेरा भी दोस्त, हम थे सहपाठी उसे भारत आना था, यह खबर थी उस की आई पर उस ने उस के बाद कोई खबर नहीं भिजवाई मित्र को फोन किया क्या बदल

the farm laws it happened sitting idle on a rainy day with not a single meeting in the way the memory of a saying long ago said came into mind and started a thread how the income of farmers be doubled