top of page
  • kewal sethi

अधूरे गीत

this poem was written in 1987. has the situation worsened or improved since that year? is the poem still relevant. let us know.


अधूरे गीत


पूछते मित्रवर मुझ से क्या है यह बात

अधूरे रहते गीत तुम्हारे नहीं बनती बात

हो रहा चारों ओर इतना, छोड़ता मन पर छाप

पर शब्दों में ढल न पाता है मन का झंझावात

उठती हैं कई तरंगें होती है हिल्लौर

पर हाथ रुक रुक जाता, नहीं चलता इस पर ज़ोर

मरज़ हो चुका लाइलाज हद से बढ़ गई बीमारी

छोड़ो दवा दारु अब, करो मरघट की तैयारी

दिल कहता लिखो कह दो बात अपने मन की

मस्तिष्क कहता रुको रुको लोग कहें गे सनकी

मन कहता आवाज़ उठाओ राज़ यह सारे खोलो

मस्तिष्क कहता बस्ती बहरों की मत कुछ बोलो

हो रही है चारों इतराफ़ लूट मार है भारी

इन स्फैदपोशों की दिखला दो यह अय्यारी

मरीज़ चला गया कोमा में यह लौट न पाये गा

चाहे कल मरे या परसों या सालों कष्ट पाये गा

नहीं उम्मीद कुछ अब मत समय बरबाद करो

हो सके तो कर प्रार्थना ईश्वर को तुम याद करो

शायद गीता में दिया गया वचन वह निभाये

ले कर अवतार फिर भारत की आन बचाये


(भोपाल 14.2.87)

1 view

Recent Posts

See All

महापर्व

महापर्व दोस्त बाले आज का दिन सुहाना है बड़ा स्कून है आज न अखबार में गाली न नफरत का मज़मून है। लाउड स्पीकर की ककर्ष ध्वनि भी आज मौन है। खामोश है सारा जहान, न अफरा तफरी न जनून है कल तक जो थे आगे आगे जलूसो

पश्चाताप

पश्चाताप चाह नहीं घूस लेने की पर कोई दे जाये तो क्या करूॅं बताओं घर आई लक्ष्मी का निरादर भी किस तरह करूॅं नहीं है मन में मेरे खोट क्यूॅंकर तुम्हें मैं समझाऊॅं पर कुछ हाथ आ जाये तो फिर कैसे बदला चकाऊॅं

प्रजातन्त्र की यात्रा

प्रजातन्त्र की यात्रा यात्रा ही है नाम जीवन का हर जन के साथ है चलना विराम कहॉं है जीवन में हर क्षण नई स्थिति में बदलना प्रजातन्त्र भी नहीं रहा अछूता परिवर्तन के चक्कर मे आईये देखें इस के रूप अनेकों सम

Comments


bottom of page