• kewal sethi

अधिकार

अधिकार


कोई रबड़ की मोहर तो हैं नहीं राज्यपाल

उन का अपना है रुतबा, अपना है कमाल

वह तो राज्य के मुखिया है, राज्य उनके नाम से ही चलता है

है कोई सरकारी आदेश जो बिना उन के नाम के निकलता है

क्या हुआ अगर मंत्रीमंडल के परिमाण पर वह नहीं बोलते

काग्रैस और दूसरों को वह कभी एक तराज़ू से नहीं तोलते

सदस्य अपात्र घोषित होते हैं तो उन के लिये अदालत है

नियम विरुध्द बरी होता है कोई तो यह उसकी अबादत है

सरकार का इकबाल है, उस को कायम रखना है

गलत सही का निर्णय तो बस दिल्ली का अपना है

लेकिन यह नहीं कि उन्हें अनदेखा किया जाये

किसी बात के लिये उन से पूछा ही न जाये

इसी लिये उन्हों ने अपना जलवा दिखा दिया

बारह तारीख के सत्र का प्रस्ताव ठुकरा दिया

सदस्यो से यह अन्याय उन से न सहा जाये गा

उन्हें पूरे दस दिन का नोटिस दिलाया जाये गा

यह मुख्य मंत्री को उन की हैसियत दिखलाये गा

अब भला कौन राज्यपाल को मोहर कह पाये गा


केवल कृष्ण सेठी

7. 9. 1995

(मन्त्री मण्डल ने एक सप्ताह के नोटिस पर विधान सभा का सत्र

बुलाने की घोषणा की थी पर राज्यपाल नहीं माने। उसी पर यह कविता)

1 view

Recent Posts

See All

कहते हैं सो करते हैं

कहते हैं सो करते हैं अगस्त 2021 चलिये आप को जीवन का एक किस्सा सुनाये । किस्सा तो है काफी लम्बा, उस का हिस्सा सुनाये।। कमिश्नर थे और हो गया था एक साल से ऊपर। कब तबादला हो गा, इस पर थी सब की नज़र।। बैटा

आरसी का आदमी

आरसी का आदमी कामयाबी जब कभी चूमे कदम तुम्हारे दुनिया चाहे इक रोज़ बादशाह बना दे आरसी के सामने खड़े हो आदमी को देखना और सुनो गौर से कि क्या है वह कह रहा शोहरत माॅं बाप बीवी के म्याद पर उतरे पूरी क्या ख्य

तलाश खुशी की

तलाश खुशी की पूछते हैं वह कि खुशी किस चीज़ का नाम है। खरीदना पड़ता है इसे या फिर यह सौगात है।। मिल जाती हे आसानी से या पड़ता है ढूॅंढना। चलते फिरते पा जाते हैं या पड़ता है झूझना।। क्या हैं इसकी खूबियाॅं,